The News (All World Gayatri Pariwar)
Home Editor's Desk World News Regional News Shantikunj E-Paper Upcoming Activities Articles Contact US

कनाडा में विश्वशांति के लिए हुआ १०८ कुण्डीय यज्ञ

[हैमिल्टन (कनाडा)],

गायत्री परिवार वेस्टर्न ओंटेरियो, कनाडा ने जनवरी २०१४ से विश्वशांति के लिए जनजागृति और साधना अभियान आरंभ किया था। गुरुपूर्णिमा पर्व पर आयोजित १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ ने इस अभियान की लोकप्रियता और शानदार सफलता का परिचय दिया। १२ जुलाई को स्टोनी क्रीक शहर के फिफ्टी प्वाइंट कॉनसर्वेशन एरिया के बीच लेक पर आयोजित हुए इस विशाल यज्ञ में ८०० साधकों ने अपनी सद्भावपूर्ण आहुतियाँ समर्पित कीं। कार्यक्रम में मुख्य रूप से उन परिजनों को आमंत्रण भेजा गया था, जिन्होंने जनवरी २०१३ से जनवरी २०१४ तक संकल्पि साधना महापुरश्चरण में नैष्ठिक भागीदारी की थी। 

यह महायज्ञ एक सुनियोजित अभियान था। जनवरी २०१४ से ही इसके लिए १२० हवन कुंड, देवस्थापना चित्र, गणेश जी की छोटी प्रतिमाएँ, मंत्र लेखन पुस्तिकाएँ आदि शांतिकुंज, मथुरा, अहमदाबाद, मुंबई आदि से मँगायी गयी थीं। लगातार जनसंपर्क चलता रहा। लोगों को युगसाधना का औचित्य समझाकर उसमें भागीदारी के लिए उत्साहित किया जाता रहा। परिणाम सुखद रहे। गुरुपूर्णिमा पर आयोजित १०८ कुंडीय यज्ञ में हर वर्ग के, हर वय के लोगों की भागीदारी ने बता दिया कि युगचेतना के सान्निध्य में आकर लोगों में आत्मकल्याण और लोकमंगल की उमंग किस तरह बढ़ रही है। 


कुछ विशिष्ट प्रसंग 
  • कार्यक्रम का आरंभ झील के किनारे उगते सूर्य की साक्षी में निकाली गयी मनमोहक शोभायात्रा से हुआ। माताओं, युवतियों के साथ छोटी-छोटी बच्चियों ने भी इसमें उत्साह के साथ भाग लेते हुए दिव्य अनुभूतियाँ कीं। 
  • प्रमुख आयोजकों में से एक प्रोफेसर राकेश शर्मा ने इतने विशाल कार्यक्रम के संचालन के लिए स्थानीय स्तर पर ही युवक-युवतियों की टोली तैयार की थी। रिकी सुतारिया, रोशनी दवे, मिहिर मोदी, प्रखर सिन्हा एवं वर्तिका शर्मा द्वारा अंग्रेजी में संचालित कर्मकाण्ड तथा स्वाति वोरा, ईशानी पटेल, लता सुतारिया एवं अल्पेश मोदी की प्रज्ञागीतों की प्रस्तुति हृदयस्पर्शी थी। 
  • बाल संस्कार शाला के बच्चों को जो जिम्मेदारी सौंपी गयी, उसे उन्होंने बड़ी सजगता से निभाया। उनके प्यार और संस्कारों ने लोगों को गायत्री परिवार द्वारा संचालित बाल संस्कार शालाओं की ओर आकर्षित किया। 
  • विचार क्रांति पर विशेष ध्यान रहा। बुक स्टॉल लगाया गया। सभी को अखण्ड ज्योति पत्रिका दी गयी। बहुत से लोगों ने इसकी सदस्यता ग्रहण की। 






Click for hindi Typing


Related Stories
Recent News
Most Viewed
Total Viewed 773

Comments

Post your comment