The News (All World Gayatri Pariwar)
Home Editor's Desk World News Regional News Shantikunj E-Paper Upcoming Activities Articles Contact US

अध्यात्मवादी चिंतन को अपनायें : डॉ. पण्ड्याजी

[Shantikunj], Jun 14, 2017
शांतिकुंज में आयोजित भारतीय शिक्षण मण्डल का अभ्यास वर्ग के दूसरे दिन मुख्यमंत्रीजी ने कहा -भारतीयता को ओर अग्रसर हो युवा

हरिद्वार, १४ जून।
राज्य के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावतजी ने कहा कि वेदों एवं आर्षग्रंथों में विभिन्न विषयों के शोधों से संबंधित अनेक सूत्र हैं, इन सूत्रों को ध्यान देने व अपनाने से भारतीय संस्कृति के स्तंभ को मजबूत किया जा सकता है। इन्हीं सूत्रों के अवलम्बन से युवा भारतीयता की ओर अग्रसर हो सकते हैं।

वे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में आयोजित तीन दिवसीय भारतीय शिक्षण मंडल का अभ्यास वर्ग के दूसरे दिन के प्रथम सत्र को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पौलेण्ड व स्पेन में संस्कृत को अनिवार्य विषय के रूप में पढ़ाया जाने लगा है। संस्कृत एक सदाचार सिखाने वाला भाषा का नाम है। संस्कृत (वेदों, उपनिषदों) के माध्यम हरित ऊर्जा से लेकर अनेक विषयों में शोध रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में शिक्षा व्यवस्था ऐसी हो, जहाँ विद्यार्थी अपने भारतीय संस्कृति व पूर्वजों को आदर करना सीखें। शिक्षा में जीवन मूल्य समाहित हों। उत्तराखण्ड बनने के बाद प्रथम विवि के रूप में स्थापित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के युवा भी इस दिशा में अग्रसर हो रहे हैं, यह गौरव की बात है।

गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि यह समय अनीति के उच्छेदन का है। इसके लिए अध्यात्मवादी विचारधारा को अपनाना पड़ेगा। अध्यात्मवादी विचारधारा अर्थात् संस्कृत, संस्कृति व संस्कार से परिपूर्ण विचार। इन्हीं विचारों के माध्यम से हमारी जीवन शैली बदल सकती है और हम परिवार, समाज व राष्ट्र के विकास में सहयोग दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि देश के युवा पाश्चात्य संस्कृति के अंधी दौड़ में अवसाद से ग्रस्त हो रहे हैं, उन्हें बचाने एवं भारतीय संस्कृति को पुष्ट करने के लिए सभी को मिल जुलकर कार्य करने होंगे। देसंविवि के कुलाधिपति डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि शांतिकुंज द्वारा संचालित हो रहे निर्मल गंगा जन अभियान में पाँच लाख कार्यकर्त्ता व युवा जुटें हैं, आने वाले दिनों में इसकी संख्या और बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि जनवरी २०१८ में नागपुर (महाराष्ट्र) में कई लाख युवाओं एकत्रित होंगे, जहाँ उन्हें समाज के विकास में कार्य करने के लिए प्रेरित करते हुए संकल्पित कराये जायेंगे। मंडल की राष्ट्रीय महिला प्रमुख डॉ. गीता मिश्र ने एकल गीत प्रस्तुत किया। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री अंगद सिह, प्रांतीय अध्यक्ष श्री मनोहर सिंह रावत आदि ने अपने- अपने विचार रखे।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री श्री रावत एवं गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी सहित भारतीय शिक्षण के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। शांतिकुंज संगीत विभाग के भाइयों ने सुमधुर गीत से सभी को झंकृत कर दिया। मंडल के राष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ. ओपी सिंह ने सभी का आभार प्रकट किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी श्री दीपक रावत सहित जिला प्रशासन के अनेक अधिकारी, पत्रकार व अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।






Click for hindi Typing


Related Stories
Recent News
Most Viewed
Total Viewed 347

Comments

Post your comment