The News (All World Gayatri Pariwar)
Home Editor's Desk World News Regional News Shantikunj E-Paper Upcoming Activities Articles Contact US

१०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ, चिराला, प्रकाशम् जिला (आन्ध्र प्रदेश)

[Andhra Pradesh], Jul 08, 2017
विशेषताएं:- भव्य यज्ञशाला सजाया गया। पेड़ पौधों से लेकर सदवाक्यों तक।
२१११६ कलशों द्वारा मंगल कलश शोभा यात्रा।
११११६ दीपकों द्वारा विराट दीपमहायज्ञ।
विराट साहित्य स्टॉल ।।
११०० गायत्री मन्त्र दीक्षा।
१६ हजार से ज्यादा लोगों की भागीदारी।

१७, १८, १९ जून १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ के साथ तीन दिनों तक चले कार्यक्रम में प्रथम दिवस सायं ०४:०० बजे मंगल कलश यात्रा २११६ कलशों की भव्य यात्रा निकाली, उसके बाद सायं नारी जागरण विषय पर श्री काली चरण शर्मा जी ने उद्बोधन किया। जिसका अनुवादन श्रीमती प्रशान्ति शर्मा ने किया।

दूसरे दिन देवपूजन पहली बार प्रातः ०६:०० बजे यज्ञशाला देवपूजन के लिए जोड़ों के साथ भर गयी। देवपूजन में सभी को आनन्द आया। गायत्री मन्त्र दीक्षा डॉ. बृजमोहन गौड़ जी ने सम्पन्न कराई। कई परियों में यज्ञ चलता रहा। दोपहर ०३:०० बजे से कार्यकर्ता विशेष गोष्ठी सम्पन्न हुई। आन्ध्रप्रदेश प्रदेश एवं तेलंगाना स्टेट प्रकाशम्, गुण्टूर, कृष्णा, हैदराबाद, वारंगल, खम्मम, करीमनगर आदि जनपदों के साथ चेन्नई के चुने हुए सक्रिय कार्यकर्ताओं की सामूहिक गोष्ठी संपन्न हुई जिसमें अश्वमेध महायज्ञ मंगलगिरी की सफलता के लिए सभी के विचार आदान- प्रदान किये गए। गोष्ठी में श्री कालीचरण शर्मा जी ने पूर्वानुमानित अश्वमेध व्यवस्था पर प्रकाश डाला और कार्यकर्ताओं को जागरूक किया, डॉ. बृजमोहन गौड़ जी भाई साहब ने सभी की बात सुननें के बाद उनको पूज्य गुरुदेव के विचार कणों से अनुप्राणित किया। सभी परिजनों की अपनी व् शाखा की समस्याएँ थी उनका समाधान कर नयी ऊर्जा से भर दिया गया।

विराट दीप महायज्ञ ११११६ दीपको को यज्ञशाला में सजाया गया। दीप महायज्ञ में युवा जोड़ो अभियान पर श्री कालीचरण शर्मा जी ने उद्बोधन किया उसके बाद डॉ. बृजमोहन गौड़ जी ने अश्वमेध महायज्ञ के उद्देश्य प्रयोजन पर प्रकाश डाला। तत्पश्चात श्री उमेश कुमार शर्मा एवं तेलुगु टिप्पणी के साथ श्रीमती प्रशान्ति शर्मा ने दीपमहायज्ञ कराया दीपयज्ञ की छटा देखते ही बनती थी।

तृतीय दिवस प्रातः यज्ञ, विभिन्न संस्कार सम्पन्न हुए यज्ञ कई परियों में हुआ बाद में महापूर्णाहुतिः संपन्न की गयी। पूरे कार्यक्रम का सञ्चालन तेलुगु भाषा में श्रीमती प्रशान्ति शर्मा ने किया। तथा विशेष उद्बोधनों को तेलुगु अनुवादन भी किया।

शान्तिकुञ्ज की संगीत टोली श्री भाव सिंह तोमर ने तेलुगु गीत गए श्री हुकुम चन्द वादक श्री नेगी ने कैसियो द्वारा म्यूजिक दिया। श्री फूल सिंह तेलुगु गायक, श्री चंद्रशेखर ने वायलन बजायी। श्री एन वी शिवाजी राव ने मञ्च पर लोगों से पूजन कराया।








Click for hindi Typing


Related Stories
Recent News
Most Viewed
Total Viewed 348

Comments

Post your comment