The News (All World Gayatri Pariwar)
Home Editor's Desk World News Regional News Shantikunj E-Paper Upcoming Activities Articles Contact US

डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने सेना की ईको टास्क फोर्स के साथ किया वृक्षारोपण

[हरिद्वार], Aug 25, 2017
आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी  समारोह के मुख्य अतिथि थे 
युवा प्रकोष्ठ शांतिकुंज एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने भाग लिया 

हरिद्वार। उत्तराखंड 
गढ़वाल राइफल्स की ही एक इकाई 'ईको टास्क फोर्स' ने शांतिकुंज के सहयोग से २५ अगस्त को अपराह्न हर की पैड़ी के निकट पंत द्वीप  में वृक्षारोपण का विशेष कार्यक्रम रखा। यह कार्यक्रम समारोह पूर्वक सम्पन्न हुआ। शांतिकुंज के प्रमुख प्रतिनिधि आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी इसमें मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित थे। सेना का नेतृत्व कमान अधिकारी कर्नल राणा ने किया। 

दीप प्रज्वलन एवं देव पूजन के बाद कर्नल राणा ने कार्यक्रम के उद्देश्य एवं उनके द्वारा किये गये कार्यों की जानकारी दी। आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने पर्यावरण संरक्षण का अपना संकल्प दोहराते हुए कहा कि सेना के इस महा अभियान में हम सदा साथ हैं। आप यदि चीन की सीमा पर भी सहयोग चाहेंगे तो हम वहाँ भी पेड़ लगाने पहुँचेंगे। 

इससे पूर्व शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री केदार प्रसाद दुबे ने वृक्षों के अनुदानों की चर्चा की। पर्यावरण संरक्षण के लिए तरुपुत्र एवं तरुमित्र योजनाओं की जानकरी दी एवं उपलब्धियाँ बतायीं। 

वृक्षारोपण से पूर्व शांतिकुंज प्रतिनिधि ने तरु मिलन का अत्यंत भावभरा कार्यक्रम सम्पन्न कराया। तत्पश्चात् लगभग ८ से १० फीट ऊँचाई के पेड़ उपस्थित गणमान्यों, सैनिकों एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने रोपे। इस कार्यक्रम में हरिद्वार विकास प्राधिकरण के मुख्य अधिकारी, एडीएफओ. हरिद्वार, सिटी एसपी. महोदया, मुख्यमंत्री के विशेष अधिकारी भी उपस्थित थे। 
 हिमालय क्षेत्र में रोपे हैं सवा करोड़ पौधे -ईको टास्क फोर्स 
ईको टास्क फोर्स सेना की टुकड़ी गढ़वाल राइफल्स की ही एक कमान है, जिसका गठन हिमालय की हरियाली को बचाने एवं बढ़ाने के लिए ही विशेष रूप से किया गया है। कर्नल राणा ने बताया कि यह वातावरण के अनुकूल बड़े आकार के पेड़ों का ही रोपण करती है और उसके संरक्षण के लिए कँटीले तार लगाती है। कमान ने अब तक हिमालय के पर्वतीय क्षेत्र में सवा करोड़ वृक्ष लगाए हैं। शांतिकुंज ने पहले भी कई बार उनके इस कार्य में सहयोग किया है। 






Click for hindi Typing


Related Stories
Recent News
Most Viewed
Total Viewed 1029

Comments

Post your comment