The News (All World Gayatri Pariwar)
Home Editor's Desk World News Regional News Shantikunj E-Paper Upcoming Activities Articles Contact US

शांतिकुंज में गंगा स्वच्छता पर कार्ययोजना संगोष्ठी

शांतिकुंज में गंगा स्वच्छता पर कार्ययोजना संगोष्ठी
उ०प्र० व उत्तराखण्ड के 18 जिलों के करीब 250 लोगों ने की भागीदारी
4 नवम्बर को हरिद्वार में बृहत गंगा स्वच्छता अभियान चलायेगा गायत्री परिवार देश भर के विभिन्न जलस्रोतों एवं तालाबों की सफाई भी इसी दिन

हरिद्वार। 
    गंगोत्री से गंगासागर तक जहाँ-जहाँ से गंगा गुजरती है, वहाँ के लोगों को जागरूक करने के लिए शांतिकुंज ने बृहत योजना तैयार की है। इसके तहत गंगा के निकट रहने वाले लोगों को भगीरथी की महत्ता से अवगत कराने के लिए पदयात्रा निकाली जायेगी तथा उन्हें गंगा की पवित्रता को अक्षुण्ण बनाये रखने के लिए गंगा में गंदगी नहीं डालने के लिए प्रेरित और संकल्पित कराया जायेगा। गायत्री परिवार 4 नवम्बर को हरिद्वार में गंगा की स्वच्छता के लिए विशेष स्वच्छता अभियान चलायेगा। इसी दिन देश भर में फैले गायत्री परिजन विभिन्न संगठन के साथ मिलकर स्थानीय जल स्रोतों एवं तालाबों की सफाई करेंगे।
इस आशय के मद्देनजर सोमवार को शांतिकुंज के रामकृष्ण परमहंस हाल में संगोष्ठी हुई। इसमें उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड के 18 जिलों के करीब दो सौ एवं शांतिकुंज आश्रम के 50 से अधिक वरिष्ठ स्वयंसेवक भाई-बहिन उपस्थित थे। आयोजन में अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने कहा कि आज पहले से कहीं अधिक सम्पदा, साधन, सुविधा, योग्यता, ज्ञान-विज्ञान मौजूद है, फिर भी लोग दु:खी हैं।
इसका मुख्य कारण उसका नैतिक पतन है। उन्होंने कहा कि युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्य ने नैतिक उत्थान के लिए गायत्री परिवार बनाया है, जो समाज में समय-समय पर विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता आ रहा है। 
व्यवस्थापक श्री शर्मा ने कहा कि 4 नवम्बर को हरिद्वार में गंगा मैया की गोद से गंदगी निकालने के लिए बृहत स्तर पर गंगा सफाई अभियान चलाया जायेगा। इसमें उ०प्र०, उत्तराखण्ड के 18 जिलों के गायत्री परिवार के आमंत्रित सदस्य, शांतिकुंज के अंतेवासी कार्यकर्त्ता, देवसंस्कृति विवि के स्टाफ व विद्यार्थी एवं देश के कोने-कोने से आये विभिन्न प्रशिक्षण सत्रों के प्रशिक्षणार्थी अपना श्रमदान करेंगे। उन्होंने कहा कि शांतिकुंज ने निर्णय लिया है कि गंगोत्री से गंगासागर तक जहाँ-जहाँ गंगा बहती है, उसके तट पर बसे गाँवों, कस्बों व शहरों के लोगों में जन जागरण के लिए पदयात्राएँ निकाली जायेंगी। उन्होंने कहा कि ग्राम तीर्थ यात्रा के तहत एक लाख गाँव तक विचार क्रांति अभियान को गति देने के लिए प्रवृज्या टोलियाँ रवाना की जायेंगी।
वरिष्ठ कार्यकर्त्ता इंजी. कालीचरण शर्मा ने कहा कि गायत्री परिवार के नेतृत्व में बेरों का मठ राजसमंद से निकली बनास नदी के स्वच्छता अभियान में 650 किमी की पदयात्रा की गयी। इसके अंतर्गत 402 गाँवों में बनासमाता सेवा मण्डलों की स्थापना की गयी। इनके माध्यम से बनास नदी की स्वच्छता के लिए करीब 34 हजार लोगों ने संकल्प लिये। इस दौरान 27हजार 7 सौ पौधे नदी के निकट लगाये गये। 
शांतिकुंज के रचनात्मक प्रकोष्ठ के केदार प्रसाद दुबे ने बताया कि पदयात्रा के दौरान गंगा के तटीय स्थानों पर स्थाई स्वच्छता के लिए जन जागरण हेतु गंगा सेवा मण्डल का गठन किया जायेगा। यह मण्डल गायत्री परिवार व स्थानीय निकाय के सहयोग से कूड़ा निस्तारण के लिए बनाये निर्धारित स्थानों की देखरेख करेंगे। उन्होंने कहा कि तटीय स्थानों पर सघन वृक्षारोपण भी किया जायेगा।






Click for hindi Typing


Related Stories
Recent News
Most Viewed
Total Viewed 1049

Comments

Post your comment