img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय का प्रवेश परीक्षा का परिणाम आज घोषित हो गया। चयनित विद्यार्थी मेडिकल टेस्ट के पश्चात् प्रवेश ले पायेंगे। डिप्लोमा, स्नातक, परास्नातक स्तर पर चलाये जा रहे 34 विषयों में प्रवेश प्रक्रिया का क्रम 11 जुलाई तक चलेगा। प्रवेश प्राप्त छात्र- छात्राएँ 13 जुलाई को होने वाली ज्ञान दीक्षा में सम्मिलित होंगे। ज्ञान दीक्षा के माध्यम से आचार्य एवं विद्यार्थी के बीच बेहतर सामंजस्य के लिए तथा देसंविवि के सूत्रों से दीक्षित किया जायेगा।

परीक्षा नियंत्रक व प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने बताया कि प्राचीन नालंदा व तक्षशिला विश्वविद्यालय की तर्ज पर चल रहे देसंविवि के पासआउट विद्यार्थी समाज को ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करने वाला है। यहाँ के विद्यार्थी न केवल अपने पाठ्यक्रम पूरा करते हैं, वरन् स्वावलंबी बनने के लिए विविध रचनात्मक कार्यक्रमों से भी प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं। उन्होंने बताया कि विभिन्न समस्याओं के भंवर में फंसी युवा पीढ़ी के लिए जीवन प्रबंधन की अनिवार्यता को ध्यान में रखते हुए देसंविवि में विशेष कक्षाएँ आयोजित की जाती हैं। कुलसचिव श्री संदीप कुमार के अनुसार विवि के आध्यात्मिक दिनचर्या यहाँ की पहचान है, विद्यार्थियों को तनाव मुक्त रखने के उद्देश्य से कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या स्वयं नियमित रूप से गीता व ध्यान की कक्षा लेते हैं।



इग्नू में प्रवेश हेतु आवेदन पत्र देसंविवि में भी उपलब्ध

हरिद्वार 05 जुलाई।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय से बीपीपी, स्नातक, स्नातकोत्तर सहित विभिन्न विषयों के प्रवेश हेतु आवेदन पत्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय से प्राप्त किया जा सकता है। प्रवेश हेतु आवेदन पत्र देसंविवि के चैतन्य भवन से 8 जुलाई तक लिया जा सकता है। क्षेत्रीय प्रबंधक अनिल कुमार डिमरी के अनुसार विलंब शुल्क के साथ 31 जुलाई तक आवेदन पत्र जमा किये जा सकते हैं।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....