Published on 2017-04-19

हरिद्वार १९ अप्रैल।

अपने प्रवास के दौरान पद्मश्री डॉ. विजय कुमार सारस्वतजी देवसंस्कृति विश्वविद्यालय का भी भ्रमण किया। यहाँ उन्होंने विवि द्वारा संचालित हो रहे विभिन्न गतिविधियों का अवलोकन किया और युवाओं के शैक्षणिक विकास के साथ स्वावलंबी बनाने की दिशा में सार्थक पहल की सराहना की। उन्होंने कहा कि देसंविवि सच्चे अर्थों में युवाओं को सही दिशा दे रहा है।

विवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी ने डॉ. सारस्वतजी को विवि में चलाये जा रहे कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी दी। साथ ही युवाओं को स्वावलंबी बनाये जाने की दिशा में चलाये जा रहे कुटीर उद्योग प्रशिक्षण, हस्तकरघा प्रशिक्षण, सृजना, ग्राम प्रबंधन आदि से अवगत कराया। इस अवसर पर प्रतिकुलपति विवि के साहित्य भेंट कर सम्मानित किया।



Write Your Comments Here:


img

शराब से पीड़ित जनमानस की आवाज बनकर उभरा है गायत्री परिवार का प्रादेशिक युवा संगठन

शराबमुक्त स्वर्णिम मध्य प्रदेश

अखिल विश्व गायत्री परिवार की मध्य प्रदेश इकाई ने सितम्बर माह से अपने राज्य को शराबमुक्त करने के लिए एक संगठित, सुनियोजित अभियान चलाया है। इस महाभियान में केवल गायत्री परिवार ही नहीं, तमाम सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों.....

img

ग्राम तीर्थ जागरण यात्रा

चलो गाँव की  ओर ०२ से ०८ अक्टूबर २०१७हर शक्तिपीठ/प्रज्ञापीठ/मण्डल से जुडे कार्यकर्त्ता अपने- अपने कार्यक्षेत्र (मण्डल) के ग्रामों की यात्रा पर निकलेंसंस्कारयुक्त, व्यसनमुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित एवं सहयोग से से भरे- पूरे ग्राम बनाने के लिये अभियान चलायेंएक.....