युवा क्रांति रथ -विराट अभियान - 40,000 KM, २७ राज्य - जाने क्या है उद्देश्य व व्यवस्थाएँ

Published on 2017-09-20
img

युवाशक्ति को स्वस्थ, सबल, संस्कारवान, स्वावलम्बी, सेवाभावी, राष्टःभक्त बनाने का विराट अभियान

पश्चिम में द्वारका (१५ सितम्बर)
उत्तर में वैष्णोदवी (१८ सितम्बर)
पूर्व में गुवाहाटी (२१ सितम्बर)
दक्षिण में कन्याकुमारी (२३ सित.)
से आरंभ हुई रथयात्राएँ

रथ की विशेषताएँ व व्यवस्थाएँ

युवा क्रांति वर्ष के समापन से पूर्व अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा पूरे देश के मंथन का एक विराट अभियान आरंभ हो गया। देश के चारों कोनों से एक- एक रथ के साथ 'युवा क्रांति रथ- युवा भारत यात्रा' का शुभारंभ हुआ। १२ सितम्बर को आदरणीया शैल जीजी एवं आदरणीय डॉ. साहब ने शांतिकुंज में ऋषियुग्म के स्मारक 'प्रखर प्रज्ञा- सजल श्रद्धा' के समक्ष द्वारका से आरंभ होने वाली प्रथम यात्रा के रथ का प्रथम पूजन कर उसे हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने रथ पर स्थापित शक्तिकलश में युगऋषि की तप:स्थली शांतिकुंज की माटी एवं गंगाजल की स्थापना की, नये वाहन का पूजन किया। इस अवसर पर उपस्थित आश्रमवासियों एवं शिविरार्थियों द्वारा किये गये स्वस्तिवाचन और जय- जयकारों से पूरा परिसर जोश और उल्लास से भर गया। क्रमश: चारों रथ इसी प्रकार भावभरे पूजन के पश्चात् शांतिकुंज से द्वारका, वैष्णोदेवी, गुवाहाटी और कन्याकुमारी के लिए रवाना किये गये।

लगभग सवा चार माह में २७ राज्य व ४ केन्द्र शासित प्रदेशों में ४०,०००० किलोमीटर मार्गो से होकर २५ जनवरी २०१८ को नागपुर पहुँचेंगी।

६ करोड़ लोगों तक संदेश पहुँचाने का है लक्ष्य

रथ की विशेषताएँ व व्यवस्थाएँ

• १० ७ ७.५ फीट की विशाल एलईडी स्क्रीन से सुसज्जित है। इसके माध्यम से शांतिकुंज द्वारा निर्मित छोटी- छोटी फिल्म, डॉक्यूमेण्ट्री, वीडियो- आॅडियो गीत, प्रेज़ेण्टेशन, परम पूज्य गुरुदेव एवं आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी व शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं के विशेष संदेश दिखाये जायेंगे।
• तरह- तरह की प्रचार सामग्रियाँ बाँटी जायेंगी।
• प्रतिदिन ६०- ७० कि.मी. की दूरी तय करेगा।
• प्रात:- सायंकालीन सभाओं के अलावा रास्ते में पड़ने वाले नगर, गाँवों में भी रुककर युवा क्रांति संदेश दिया जायेगा।
• संकल्प : इस रथ द्वारा जहाँ भी संदेश दिया जायेगा, वहाँ अंत में लोगों से मुट्ठी बाँधकर, हाथ उठाकर अपने व्यक्तित्व के परिष्कार तथा राष्ट्र के नवनिर्माण में सक्रिय भूमिका निभाने के संकल्प कराये जायेंगे।
• २५ जनवरी २०१८ को चारों रथ नागपुर पहुँचेंगे, जहाँ २६ से २८ जनवरी की तारीखों में नवसृजन युवा संकल्प समारोह का आयोजन हो रहा है।

उद्देश्य और संदेश

किसी भी राष्ट्र की प्रगति वहाँ की युवाशक्ति पर निर्भर है। भारत विश्व का सबसे युवा देश है। इसे सही दिशा देकर परम पूज्य गुरुदेव के च्इक्कीसवीं सदी, उज्ज्वल भविष्यज् के संकल्प को साकार करना हमारा उद्देश्य रहा है।

अखिल विश्व गायत्री परिवार ने वर्ष २०१६- १७ 'युवा क्रांति वर्ष' के रूप में मनाया। इन दो वर्षों में देश की तरुणाई को जगाने, उसमें जीवन साधना की ललक एवं भाव संवेदनाओं को उभारने, जाग्रत तरुणाई को प्रशिक्षित एवं संगठित कर उसकी शक्तियों का सृजनात्मक प्रयोजनों में सुनियोजन करने की दिशा में अभूतपूर्व कार्य हुआ है। युवा क्रांति रथ यात्रा इन उपलब्धियों को जन- जन तक पहुँचाकर नये युवाओं को परम पूज्य गुरुदेव के विचार, उनके साहित्य और गायत्री परिवार की योजनाओं का परिचय करायेगी।

इन दिनों देश संक्रमण काल से गुजर रहा है। भारत आर्थिक एवं राजनीतिक दृष्टि से पूरे विश्व में एक महाशक्ति के रूप में उभर रहा है। लेकिन अभाव, गरीबी, बेरोजगारी, आतंक, भ्रष्टाचार जैसी समस्याएँ कम नहीं हुई हैं। इनका समाधान केवल प्रशासन नहीं, जाग्रत जनमानस ही दे सकता है। स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित, संस्कारवान, सच्चरित्र, सेवाभावी, राष्ट्रभक्त युवा ही सुखी और सम्पन्न राष्ट्र का निर्माण कर सकते हैं। यह युवा क्रांति रथ यात्रा यह संदेश जन- जन तक पहुँचायेगी। अखिल विश्व गायत्री परिवार जाग्रत आत्माओं को तलाशने, तराशने, उन्हें आत्मबल सम्पन्न बनाकर उनकी अकूत शक्तियों का राष्ट्रहित में सुनियोजन करने का एक सुव्यवस्थित तंत्र है, यह बतायेगी। इस अभियान से जुड़ने का संकल्प करायेगी।

गायत्रीतीर्थ, शांतिकुंज में ऋषियुग्म के स्मारकों से आरंभ हो रही यह यात्रा पूरे देश में नयी शक्ति का संचार करेगी। यहाँ की आध्यात्मिक तरंगें देश के कोने- कोने में पहुँचेंगी। • आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी

राम के संकल्पों को उनके रींछ- वानरों ने पूरा किया था, लव- कुश ने उनकी कथा- गाथा गायी थी। उसी प्रकार चिर युवा परम पूज्य गुरुदेव के युवा संकल्पों को पूरा करने वाले रींछ- वानर, उनकी गाथा गाने वाले लव- कुश हमारे सामने बैठे हैं। यह देश चिर युवा है, चिर युवा ही रहेगा। • आदरणीया शैल जीजी

शांतिकुंज में दिया प्रशिक्षण

युवा क्रांति रथयात्रा से पूर्व इसके साथ चलने वाली टोलियों का प्रशिक्षण दिनांक १ से ४ सितम्बर तक की तारीखों में हुआ। देश के प्रत्येक क्षेत्र से आये १०० कार्यकर्त्ताओं ने इसमें भाग लिया। यात्रा के उद्देश्य एवं संचालन की विधि- व्यवस्था की संपूर्ण जानकारियाँ उन्हें दी गयीं।

पूरे देश में है जबरदस्त उत्साह

उपयात्राएँ: विभिन्न शाखाओं द्वारा अपने स्तर पर उपयात्राएँ निकाली जा रही हैं। इनके माध्यम से उन गाँव, नगरों तक भी युवा क्रांति रथयात्रा का संदेश पहुँचाया जा रहा है, जहाँ से होकर मुख्य रथ नहीं गुजर रहा। इन उपयात्राओं के साथ समूहबद्ध होकर युवा क्रांति रथयात्रा के स्वागत की तैयारियाँ हो रही हैं।

• क्षेत्रीय लोगों की सुविधा और सूचनाओं के लिए पायलट टोलियों की व्यवस्था की जा रही है।
• क्षेत्रीय परिजनों ने शांतिकुंज की टोलियों के साथ जुड़ने की व्यवस्था भी बना ली है, ताकि लोगों को भाषा की समस्या का सामना न करना पड़े।
• शिक्षण संस्थानों से संपर्क : क्षेत्रों में विद्यालय, महाविद्यालय, विश्वविद्यालयों से संपर्क किया जा रहा है। उनमें रथ के संदेश के कार्यक्रम सुनिश्चित किये जा रहे हैं। स्वागत समारोहों में विद्यार्थियों को लाने और राष्ट्र के नवनिर्माण के लिए संकल्पित कराने के प्रयास किये जा रहे हैं।
• संगठन : विभिन्न स्वयंसेवी, सामाजिक, सांस्कृतिक, व्यापारिक, राजनीतिक, शासकीय संगठनों, प्रतिष्ठित महानुभावों, अधिकारियों को युवा क्रांति रथ के स्वागत के लिए आमंत्रित किया जा रहा है।
• विभिन्न शाखाएँ शांतिकुंज से अनुमति लेकर अपने स्तर पर भी अपनी क्षेत्रीय भाषा में परिचयात्मक पैम्फलेट छपवाकर बाँटने जा रही हैं।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार यूथ ग्रुप कोलकाता ने आरंभ किए कई नये अभियान

विश्व पर्यावरण दिवस पर गतिशील हुआ वृक्षगंगा अभियानजगदल में हर गुरुवार को होगा वृक्षारोपणकोलकाता। प. बंगालगायत्री परिवार यूथ ग्रुप कोलकाता ने विश्व पर्यावरण दिवस से एक नई पहल की। उस दिन जगदल में १०१ पेड़ लगाये गये। इसके साथ जगदल.....

img

छत्तीसगढ़ में चल रही है व्यक्तित्व निर्माण आवासीय शिविरों की शृंखला

विजन -२०२६ के अंतर्गत चल रहा है अभियान २७ शिविर आयोजित होंगेजनवरी २०१८ को नागपुर में आयोजित युग सृजेता युवा सम्मेलन का एक महत्त्वपूर्ण सूत्र था च्विजन -२०२६ज् का आधार युवा जागृति अभियान है। छत्तीसगढ़ के प्रांतीय युवा संगठन ने.....

img

बिहार शक्तिपीठ प्रांगण में १०८ पौधे रोपे

१५००  पेड़ सभी १४ ब्लॉकों में  रोपे जायेंगेनवादा। बिहारगायत्री शक्तिपीठ नवादा ने विश्व पर्यावरण दिवस पर शक्तिपीठ प्रांगण में १०८ पौधे लगाते हुए इस वर्ष के संकल्पित वृक्षगंगा अभियान का शुभारंभ किया। उल्लेखनीय है कि शक्तिपीठ से.....