Published on 2017-12-11
img

व्यसन मुक्ति उत्तर प्रदेश हस्ताक्षर अभियान अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रांतीय युवा प्रकोष्ठ के तत्ववाधान में शक्तिपीठ युवामण्डल शाहजहाँपुर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह आयोजन आर्य कन्या इंटर कालेज में छात्राओं को नशे से होने वाली हानियों को बताते हुये उन्हें हस्ताक्षर अभियान से जोड़ा गया। उपस्थित सैकड़ों छात्राओं ने प्रदेश को नशा मुक्त करने का संकल्प लिया । शक्तिपीठ व्यवस्थापक (ट्रस्टी) राजाराम मौर्य के संरक्षण में शक्तिपीठ युवा मण्डल के सूरज वर्मा और अन्य सदस्यों ने आर्य महिला इंटर कालेज की प्रधानाचार्या को हस्ताक्षर अभियान की फाइल सौंपी। इस अवसर पर सूरज वर्मा ने छात्राओं को नशे से होने वाली भयंकर समस्याओं से अवगत कराते हुए कहा कि कलयुग का राक्षस नशा है । तमाम आधिव्याधिओ का एक मात्र कारण यही नशा है । गायत्री परिवार ने देश को नशा मुक्त बनाने का संकल्प लिया है । प्रदेश के लोगों को इस अभियान से जोड़ने के लिए यह हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा है । इस अवसर पर प्रधानाचार्या आशा किरण यदुवंशी ने इस अभियान को पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन देते हुये कहा कि गायत्री परिवार के इस अभियान से जुड़कर छात्राएं प्रदेश को नशा मुक्ता बनाने की दिशा में सार्थक कदम उठा सकती है । उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार लगातार समाज सुधार के लिए कार्य कर रहा है। हमें इसके अभियान में कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करना चाहिए। इस अवसर पर रंजीत वर्मा, जगदीप सिंह, रोहित कुमार आदि मौजूद थे ।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....