Published on 2018-09-03 HARDWAR
img

भगवद्गीता मानव जीवन के लिए आवश्यक
हरिद्वार 31 अगस्त।

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि मानव जीवन में विकास के लिए गीता का अध्ययन, मनन एवं तदनुसार जीवन आवश्यक है। गीता में वैयक्तिक से लेकर सामाजिक जीवन की समस्त समस्याओं का समाधान निहित है।

      वे देव संस्कृति विश्वविद्यालय के मृत्युंजय सभागार में आयोजित गीतामृत की विशेष कक्षा को सम्बोधित कर रहे थे। श्रीमद् भगवतगीता की चर्चा करते हुए कहा कि क्रोध से मूढ़भाव उत्पन्न होता है और इससे स्मृति में भ्रम होता है। स्मृति में भ्रम हो जाने से बुद्धि अर्थात ज्ञानशक्ति का नाश हो जाता है और बुद्धि का नाश हो जाने से वह पुरुष पतन की ओर चला जाता है। उन्होंने कहा कि क्रोध से व्यक्ति का रक्त संचार अत्यधिक बढ़ता है, जो मस्तिष्क को हानि पहुँचाता है। क्रोध में व्यक्ति अपनी वासनाओं, कामनाओं और विचारों पर संयम खो देता है। क्रोध को श्रीमद् भगवद्गीता के नियमित अध्ययन, सत्संग और आत्म नियंत्रण द्वारा जड़ से मिटाया जा सकता है। क्रोध की समाप्ति ही मानव जीवन की उन्नति है।

      उन्होंने कहा कि मन को वश में करने के लिये महत्वपूर्ण है वैराग्य। जब तक व्यक्ति के अंदर आसक्ति है, तब तक वैराग्य संभव नहीं है और जब तक वैराग्य नही हैं, तब तक मन की आसक्तियां भी नहीं जाती। वैराग्य यानी रागरहित होना। मन की स्थिरता के लिये वैराग्य का होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि नियमित अभ्यास से किसी भी कार्य को सीख जा सकता है और उसमें कुशलता प्राप्त की जा सकती है। इसी तरह वैराग्य यानी रागरहित होने का भी अभ्यास किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मन की स्थिरता के लिए भगवत सत्ता का चिंतन, मनन व साधना आवश्यक है। मन में जब स्थिरता आती है, तभी शांति मिल सकती है और ऐसे व्यक्ति ही सच्चे अर्थों में सुखी है।

      इस अवसर पर श्रद्धेय डॉ. पण्ड्या जी ने विद्यार्थियों के विभिन्न शंकाओं का समाधान देते हुए उनके शैक्षणिक विकास के साथ आध्यात्मिक विकास के सूत्र दिये। इस अवसर पर इस अवसर कुलपति श्री शरद पारधी सहित समस्त विभागाध्यक्ष, शिक्षक-शिक्षिकाएँ, विद्यार्थी गण उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से मार्गदर्शन ले गंगा सेवा मंडल प्रशिक्षण टोली रवाना

हरिद्वार १४ नवंबर।अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा संचालित निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत संगठित गंगा सेवा मंडलों के प्रशिक्षण हेतु बुधवार को पांच सदस्यीय एक टोली शांतिकुंज से रवाना हुई। ये टोली बिजनौर से लेकर उन्नाव तक के शहरों.....

img

देसंविवि में शौर्य दीवार का हुआ अनावरण

संस्कृति के नायकों व राष्ट्र भक्तों के कारण भारत अक्षुण्ण ः राज्यपालयुवा पीढ़ी के लिए एक नई आजादी की आवश्यकता ः डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 10 नवंबर।देवभूमि के राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने कहा कि विश्व भर में सेना के अदम्य.....

img

गायत्री विद्यापीठ के बच्चों ने फटाखा व चीनी वस्तुओं के विरोध में निकाली रैली

शांतिकुंज व देसंविवि ने हर्षाेल्लास से मनाई धन्वन्तरि जयंतीपटाखा नहीं छोड़ने एवं प्रदूषणमुक्त दिवाली मनाने का लिया संकल्पहरिद्वार 5 नवंबर।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय स्थित फार्मेसी एवं शांतिकुंज के मुख्य सभागार में आयुर्वेद के प्रवर्तक भगवान धन्वन्तरि की जयंती आयुर्वेद के विकास में.....