लाइफ पॉजीटिव संस्था के करीब पचास सदस्यों ने देवसंस्कृति विवि, शांतिकुंज तथा ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के विभिन्न रचनात्मक, शोधों के बारे में विस्तार जाना। ये सदस्य अपने उत्तराखण्ड दर्शन के दौरान आज देसंविवि पहुँचे थे।
    देवसंस्कृति विवि के महत्त्वाकांक्षी योजनाओं के बारे में बताते हुए प्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि देसंविवि युगऋषि पं०श्रीराम शर्मा आचार्य की दिव्य स्वप्न का मूर्तरूप है। उन्होंने अस्सी के दशक में स्वप्न देखा था कि नालंदा, तक्षशिला की तर्ज पर एक ऐसा विश्वविद्यालय हो, जहाँ विद्यार्थियों को केवल शिक्षा ही नहीं, विद्या का अध्ययन करा सकें। युवा पीढ़ी को सच्चे अर्थों में मानव से देवमानव के रूप में गढ़ा जा सके। उन्होंने कहा कि उनके इन स्वप्नों को पूरा करते हुए अपने दस वर्ष की आयु में विवि ने अनेक कीर्तिमान स्थापित किया है।
    उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज और देसंविवि मिलकर विभिन्न रचनात्मक, सुधारात्मक कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि सूनामी, बाढ़, भूकम्प आदि जैसे दुर्घटना से पीड़ितों को भी त्वरित सहयोग के लिए तत्पर रहता है। प्रति कुलपति ने मानसिक व शारीरिक समस्याओं के निदान के लिए नियमित रूप से साधना, उपासना, आराधना को जीवन में उतारने की बात कही। प्रतिभागी पर्सनालिटी डेवलमेंट, लाइफ मैनेजमेण्ट आदि से संबंधित जिज्ञासाओं का सरल व व्यवाहारिक समाधान पाकर काफी उत्सुक थे।
    लाइफ पाजीटिव संस्था के अध्यक्ष आदित्य आलूवालिया, गौरा धवललाल  ने बताया कि इस यात्रा में देश के दिल्ली, उत्तर प्रदेश, केरल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडू आदि राज्यों से एवं नार्वे, पुर्तगाल, फीजी से आये 50 सदस्य हैं। इनमें कई शिक्षा, मीडिया, इंजीनियरिंग, चिकित्सा आदि क्षेत्रों में स्थापित हस्ताक्षर भी शामिल थे। दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले ‘आज सबेरे’ की प्रस्तोता गौरा धवललाल ने बताया कि शांतिकुंज, देवसंस्कृति विवि अपने नाम अनुरूप अतुलनीय कार्य कर रहा है। यह संस्थान समाजोत्थान के लिए जो कार्य कर रहा है, वह प्रशंसनीय है। देसंविवि भ्रमण के दौरान हस्तकरघा, पुनर्प्रयुक्त कागज निर्माण, ग्राम प्रबंधन, गौशाला आदि देखकर सभी ने मुक्त कंठ से सराहना की। सभी ने शांतिकुंज में1926 से प्रज्वलित पावन अखण्ड दीपक का दर्शन कर मनोकामना की पूर्ति के लिए प्रार्थना की। तो शांतिकुंज स्थित देवात्मा हिमालय में बैhttp://news.awgp.org/var/news/94/DSC05681N.jpg" height="121" width="216">ठकर हिमालय की दिव्य चेतना की अनुभूति की। 
वहीं ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान में अध्यात्म और विज्ञान के समन्वय पर चल रहे विभिन्न शोध कार्यों से अवगत हुए।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....