विशाल शिविर, शानदार सफलताइंदौर (मध्य प्रदेश)गायत्री शक्तिपीठ केशर बाग में आयोजित साधना शिविर एवं नौ कुण्डीय महायज्ञ का समापन २५ अक्टूबर को हुआ। इसे मनःस्थिति के परिवर्तन के अद्वितीय सामूहिक प्रयोग के रूप में आयोजित किया गया था। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री रामसिंह राठौड़ और श्री सुखदेव अनघोरे की  टोली ने कहा कि मनःस्थिति ही परिस्थिति की जन्मदात्री है। परिस्थितियों की अनुकूलता और बाहरी सहायता प्राप्त करने की फिराक में घूमने की अपेक्षा यह हजार दर्जे अच्छा है कि भावना, मान्यता, आकांक्षा, विचारणा और गतिविधियों को परिकृत किया जाये, नया साहस जुटाकर प्रयत्नशील हुआ जाये और कर्मफल के सुनिश्चित तथ्य पर विश्वास रखा जाय। उन्होंने कहा कि अध्यात्म का अवलम्बन और जीवन साधना ही मनःस्थिति परिवर्तन का सर्वोत्तम उपाय है। इंदौर, साँवेर, देवास, धार, उज्जैन, महू, देपालपुर, मानपुर के नैष्ठिक कार्यकर्त्ता ने इसमें भाग लेते हुए नयी ऊर्जा, नये विश्वास की अनुभूति की। सर्वश्री उषा तिवारी, मुकेश गुप्ता, नवलसिंह पंवार, राधेश्याम कासट, प्रमिला विजयवर्गीय, शशिप्रभा महाजन, सजल तिवारी आदि शिविर आयोजन के प्रमुख सहयोगी थे।   ग्वालियर (मध्य प्रदेश)शांतिकुंज द्वारा नवरात्रि के बाद शक्तिपीठों पर शक्ति साधना शिविरों की शृंखला चलायी गयी। इस क्रम में गायत्री प्रज्ञा पीठ, कम्पू, ग्वालियर पर दिनांक १५ से १९ नवंबर की तारीखों में शिविर आयोजित हुआ। उपजोन ग्वालियर के अंतर्गत आने वाले ग्वालियर, दतिया, भिण्ड, मुरैना और श्योपुर के १४० साधकों ने इसका लाभ लिया। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री रामसिंह राठौड़ एवं श्री सुखदेव अनघोरे ने शिविर संचालन करते हुए साधना के विविध प्रयोगों को जीवन साधना से जोड़कर व्यक्तित्व को निखारने और पारिवारिक-सामाजिक जीवन को सँवारने के सूत्र दिये। उपजोन प्रभारी श्री हरिशंकर गौतम, जिला समन्वयक श्री गोविंद बिहारी गुप्ता, सर्वश्री राजेन्द्र अग्निहोत्री, अशोक गुप्ता, अशोक गर्ग, विद्यासागर चतुर्वेदी, रामावतार तायल ने विविध व्यवस्थाओं के दायित्व सँभाले। जोरदार उत्साह, बड़े संकल्पबोकारो (झारखंड)गायत्री शक्तिपीठ इस्पात नगर पर २० से २४ अक्टूबर की तारीखों में आयोजित हुआ साधना शिविर अत्यंत सफल और उत्साहवर्धक था। नये से नये और पुराने से पुराने हर साधक ने साधना की गहराइयों में जाकर व्यक्तित्व को निखारने और सक्रियता को बढ़ाने के उत्साह की अनुभूति की। परिणाम स्वरूप छठव्रत पर्व पर ५१०० साधकों से मंत्रलेखन कराने, सन् २०१४ में १०८ पंच कुण्डीय गायत्री यज्ञ कराने, ७ तालाबों की सफाई कराने, २ रक्तदान शिविर आयोजित करने और भारतीय संस्कृति को अधिक लोकप्रिय व प्रभावशाली बनाने के सामूहिक संकल्प लिये गये।शिविर संचालन शांतिकुंज से पहुँची श्री विष्णु भाई पण्ड्या एवं श्री अशोक परिव्राजक की टोली ने किया। प्रातः ४ से रात ९ बजे तक की व्यस्त और व्यवस्थित साधकोचित दिनचर्या रही। जीवन साधना के महत्त्वपूर्ण बिंदुओं का व्यावहारिक स्पष्टीकरण किया गया। प्रत्येक साधक की यही माँग रही कि ऐसे साधना प्रशिक्षण शिविर हर वर्ष होने चाहिए। टाटानगर (झारखंड)टाटानगर में १५ से १९ अक्टूबर की तारीखों में आयोजित विशिष्ट साधना शिविर संयम, सेवा के साथ आत्म परिष्कार की नयी स्फुरणा जगाने में सफल रहा। प्रातः जागरण से रात्रि शयन की नियमित दिनचर्या, कल्क सेवन, हविष्यान्न का सेवन, अंतःऊर्जा के जागरण की अनुभूतियाँ साधकों के लिए नयी थीं। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री विष्णु पण्ड्या एवं श्री अशोक परिव्राजक से मार्गदर्शन मिला, साधना क्रम की समीक्षा हुई, साधना संबंधी अनुभूतियों और जिज्ञासाओं का समाधान मिला। कल तक बस सुनते ही थे, यह अनुभूतियाँ कल्पनातीत थीं। अधिकांश साधक युवा भाई-बहिन थे। टाटानगर, पुरूलिया, झाड़ग्राम, पटकदा, राखा माइंस और कोलकाता के साधक शिविर में शामिल हुए। साधना शिविर के साथ मिशन के विस्तार के कुछ और भी प्रयास हुए। जलाराम बापा कुटी मंदिर, बिष्टपुर में गुजराती भाई-बहिनों के बीच गोष्ठी हुई। उन्होंने अपने गुजराती सनातन समाज के हॉल में पाँच दिवसीय प्रज्ञा पुराण कथा आयोजन रखने का मानस बनाया।


Write Your Comments Here:


img

विश्व स्तरीय चालीस दिवसीय साधना अनुष्ठान ( वसंत पर्व से फाल्गुन पूर्णिमा 2020 तक ) तदनुसार 30 जनवरी से 10 मार्च 2020 तक

चालीस दिवसीय साधना अनुष्ठान की यह साधना साधकों को अपने घर पर रह कर ही संपन्न करनी है । इस के लिए शांतिकुंज  नहीं आना होगा । पंजीयन करने का उद्देश्य सभी साधकों की सूचना एकत्र करना एवं शांतिकुंज स्तर.....

img

दीप यज्ञ , युवा मंडल चित बड़ा गांव बलिया

युवा प्रकोष्ठ अखिल विश्व गायत्री परिवार बलिया के तत्वावधान में युवा मंडल चित बड़ा गांव बलिया द्वारा दीप यज्ञ का आयोजन चित बड़ा गांव के मटिहि ग्राम सभा के शिव मंदिर पर किया गया जिसमे यज्ञ का सञ्चालन श्रीमती.....

img

The Pulsating SIDBI Seminar on Life Style Modification

Shraddeya Drji in concluding session of International Yoga program at Vigyan Bhavan had emphasized on Ahar and Vihaar (Lifestyle). This 14th minute discourse has inspired DIYA to take multiple seminars on Jaisa Aaan waisa maan and Life Style Modification (.....