अखिल विश्व गायत्री परिवार शान्तिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शान्तिकुंज हरिद्वार से में आई देवकन्याये कु० पूर्णिमा कुमारी हजारीबाग झारखण्ड, सविता गुप्ता गोरखपूर उ०प्र०, दिव्या श्रोत्रिय आगरा उ०प्र०, कुमारी तुलसी चम्पावत उत्तराखण्ड, स्वाति भारद्वाज बंदायू उ०प्र० द्वारा नगर के उपजेल में श्रद्धा- सद्भावना से ओत प्रोत एक विशेष कार्यक्रम बंदियो भाईयों के बीच रखा गया जिसमें देवकन्याओं ने बंदियों को प्रेरणाप्रद शिक्षा के साथ -साथ अपने विचारों में परिवर्तन लाने एवं गलतियों के लिए भगवान से प्रार्थना कर फिर से ऐसी गलती भविष्य में न हो इस कामना से गायत्री मंत्र लेखन करने का संकल्प देवकन्याओं ने कराया कार्यक्रम का शुभारंभ भक्तिभाव से प्रेरणा प्रद प्रज्ञा गीतों से किया गया । बंदियों भाईयों को सम्बोधित करते हुवे कु० पूर्णिमा ने कहा कि मन में सरलता और पविता को धारण करने के साथ मनुष्य और भगवान के बीच की दुरियाँ घटने लगती है। उन्होने बंदियों को गायत्री महामंत्र व अपने इष्ठ भगवान का प्रतिदिन स्मरण करने का संकल्प दिलाया। सविता गुप्ता ने अपने विचार रखते हुवे कहा कि मनुष्य परिस्थितियों का दास नही, स्वामी है। मनुष्य अपनी सोच बदल ले तो उसकी परिस्थितियाँ स्वंय ही बदलना प्रारंभ हो जाती है। स्वाती भारद्वाज ने सभी बंदियों को ध्यान, प्राणायाम, एवं विभिन्न मुद्राओं द्वारा कैसे मानसिक संतुलन बनाएँ रख सकते है एवं दैनिक जीवन चर्या को सुचारू रूप से चला सकते है। साथ ही ध्यान के माध्यम से एकाग्रता  प्राप्त की जा सकती है। दिव्या श्रोत्रिय ने बंदियो भाई को व्यसन न करने एवं उसके दुश्परिणाम की जानकारी सविस्तार में दी एवं कहा कि नशे के कारण हजारों घर बरबाद हो गए है एवं शरीर में  का विपरित प्रभाव पडता है। सभी बंदियों भाईयों ने हाथ उठाकर नशा न करने का संकल्प लिया। एवं सविता गुप्ता ने सभी को गुरूदेव द्वारा चलाये जा रहे सप्त सूत्रीय आंदोलन की जानकारी दी एवं कहा कि हमें अधिक से अधिक वृक्षों को लगाकर इस धरती को हरा -भरा करना है साथ ही पर्यावरण के प्रति अपना कत्र्तव्य निभाना है साथ ही जल को प्रदूषित होने से भी बचाना है साथ ही पवित्र नदियों को पवित्र बनाये रखना है। कार्यक्रम के अन्त में सभी बंदियों भाईयों को गायत्री परिवार द्वारा मंत्रलेखन पुस्तिका भेट करते हुए नियमित साधना करने की प्रेरणा दी। युग ऋषि के दिव्य संरक्षण के प्रति विश्वास जगाते हुए उनसे नये जीवन की शुरूवात करने का आवाहन किया। कार्यक्रम का आभार व्यक्त करते हुवे जेलर श्री आर०एस० शर्मा ने गायत्री परिवार की प्रति आभार व्यक्त करते हुवे ऐसे प्रेरणाप्रद कार्यक्रम की सराहना की। कार्यक्रम में गायत्री परिवार के वरिष्ठ डाँ०यू०जी०देशमुख, डाँ० के०बी० मानकर, श्री मनाहर बडघरे, श्री रामदास साहू, योगेश साहू, दिनेश साहू, भजनलाल मालवीय, श्रीमती उर्मिला देशमुख, लीला मानकर, पुष्पा सोनी उपस्थित थे।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

संस्कारित युवा पीढ़ी के निर्माण से होगा राष्ट्र निर्माण: नीलिमा

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में स्थानीय रामकृष्ण आश्रम परिसर में जिला युवा प्रकोष्ठ द्वारा 5 दिवसीय युवा व्यक्तित्व निर्माण शिविर का आयोजन किया गया है | जहाँ शिविरार्थी योग, आसान, ध्यान  समेत आध्यात्मिक और बौद्धिक ज्ञान प्राप्त कर.....

img

नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व

Nepal 8/8/17:-अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में भारत देश की तरफ से अखिल विश्व गायत्री परिवार के (DIYA TEAM)  के सदस्य श्री पी डी सारस्वत व श्री अनुज कुमार वर्मा सम्मेलन में.....