img

1॰ रविवार के साप्ताहिक कार्यक्रम:

  • कड़ी ठंड के वाबजूद भी आज के साप्ताहिक गोष्ठी एवं ध्यान-शिविर में लगभग 500 युवाओं ने शिरकत की ।जिनमे परिवार से पहली दफा रु-ब-रु होने वाले कुल 45 भाई पधारे थे।
  • मुख्य वक्ता के रूप में श्री निशांत रंजन,श्री मनीष कुमार एवं लंदन से पधारे http://youtu.be/Z5XSk3kzCyg" target="_blank">डॉ॰ गौरी शंकर (NRI) जी थे। बाल संस्कारशाला की एक बच्ची ने भी अपनी अनुभूति मंच पर रखी।
  • कार्यक्रम की शुरुआत संग्राम जिंदगी है,लड़ना इसे...  संगीत से श्री विद्या भूषण जी द्वारा किया गया।
2॰ बाल संस्कारशाला की रिपोर्ट:
  •  बाल संस्कारशाला का मुआयना करने कल शनिवार को हमारी मीडिया टीम गुलबी घाट गयी थी। वहाँ समयदान दे रहे 5-शिक्षकों से एवं 47-बच्चों से उन्होने मुलाक़ात की।
  • अन्य संस्कारशालाएँ भी सकुशल संचालित हो रही है।पहली जनवरी के मौके पर ये बहुत सारे कार्यक्रम आयोजित किए।


Find The Info Regarding प्रज्ञा युवा प्रकोष्ठ बिहार :

http://www.youtube.com/pragyagroup


Website: www.pypbihar.org
facebook: 
http://www.facebook.com/pypbiharorg
twitter: 
http://twitter.com/pypbihar
youtube: 
http://www.youtube.com/pragyagroup
google+: 
https://plus.google.com/photos/115100639640646030592/albums

blogger:  http://articles-pypbihar.blogspot.in/?view=classic

wordpress: http://thoughtspypbihar.wordpress.com/


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....