अश्वमेध गायत्री महायज्ञ - कन्याकुमारी - अनुष्ठान श्रृंखला शुभारम्भ १४ अप्रैल २०१५

Published on 0000-00-00

तृतीय अश्वमेधिक यज्ञानुष्ठान श्रृंखला का शुभारम्भ १४ अप्रैल २०१५ से हो रहा है।
कृपा करके आप अपने परिवार, रिश्तेदार ,मित्र ,पड़ोसियों और संस्था इत्यादि में फ़ोन ,मैसेज ,ईमेल ,SMS ,फेसबुक ,ट्विटर ,, व्हाट्स उप इत्यादि द्वारा भेज कर उन्हें परमात्मा के इस दिव्य आयोजन में सम्मिलित करके महा पुण्य के भागीदार बनाने के लिए प्रोत्साहित करे ।


अश्वमेध यज्ञानुष्ठान एक दिव्य पुरुषार्थ है । कोई भी श्रेष्ठ पुरुषार्थ, श्रेष्ठ भावना एवं श्रेष्ठ विचारणा के बिना सम्पन्न नहीं हो सकता । यज्ञीय पुरुषार्थ के लिए व्यापक स्तर पर यज्ञीय भावना का विकास- विस्तार अनिवार्य होता है ।

"अखण्ड ज्योति" के इसी विवरण को ध्यान में रखते हुए, परिजनों ने ४१ वे "अश्वमेध गायत्री महायज्ञ" कन्याकुमारी (२८ -३१ जनवरी २०१६ )) के लिए २४ -२४ लाख के ५४ महापुरश्चरण करने का संकल्प लिया है । इस संकल्प में आप भी अपना साधना पुरुषार्थ का सहयोग दे कर सहभागी बने ।

आप अपने सुविधा के अनुसार नीचे सुझाये गए किसी भी संकल्प को ले कर अनुष्ठान शुरू कर सकते हैं ।

२४००० गायत्री मंत्र जप (२४०० गायत्री मंत्र लेखन या २४० गायत्री चालीसा )

५४००० गायत्री मंत्र जप (५ ४०० गायत्री मंत्र लेखन या ५ ४० गायत्री चालीसा) 

१.२५ लाख गायत्री मंत्र जप (१२५०० गायत्री मंत्र लेखन या १२५० गायत्री चालीसा)

२.५० लाख गायत्री मंत्र जप (२५००० गायत्री मंत्र लेखन या २५०० गायत्री चालीसा)

५ लाख गायत्री मंत्र जप (५०००० गायत्री मंत्र लेखन या ५००० गायत्री चालीसा)

नए परिजन को भी आप एक ,दो ,तीन माला ,१०- २० मंत्र लेखन या १- २ चालीसा प्रतिदिन करने के लिए प्रोत्साहित करके उन्हें भी परमात्मा के इस दिव्य आयोजन में सम्मिलित करके महा पुण्य के भागीदार बने ।

अनुष्ठान श्रृंखला सूची :-

पहला अनुष्ठान चरण :: २४ जनवरी

दूसरा अनुष्ठान चरण :: ५ मार्च

तीसरा अनुष्ठान चरण :: १४ अप्रैल

चौथा अनुष्ठान चरण :: २४ मई

पांचवा अनुष्ठान चरण :: ३ जुलाई

छठा अनुष्ठान चरण :: १२ अगस्त

सातवाँ अनुष्ठान चरण :: २१ सितम्बर

आठवाँ अनुष्ठान चरण :: ३१ अक्टूबर

नौवा अनुष्ठान चरण :: १० दिसंबर 

पंजीकरण :-

आप अपने आप को निम्नलिखित विधि द्वारा पंजीकृत कर सकते हैं ।


ईमेल :- gayatriashwamedha@gmail.com 

कृपा करके आप अपने परिवार, रिश्तेदार ,मित्र ,पड़ोसियों और संस्था इत्यादि में फ़ोन ,मैसेज ,ईमेल ,SMS ,फेसबुक ,ट्विटर ,, व्हाट्स उप इत्यादि द्वारा भेज कर उन्हें परमात्मा के इस दिव्य आयोजन में सम्मिलित करके महा पुण्य के भागीदार बनाने के लिए प्रोत्साहित करे । 
मंगल कार्य के लिए संकल्पित होना एवं परिजनों के मंगल संकल्पों में सहभागी होना दोनों ही महत्त्वपूर्ण पुण्य कर्म हैं । 




img

१०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ तेलुगु चौधरी समाज के परिजनों द्वारा संपन्न

तेनाली गुण्टूर जिला (आन्ध्रप्रदेश)१०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ तेलुगु चौधरी समाज के परिजनों ने संपन्न कराया। जिससे गुण्टूर, कृष्णा जिले के परिजनों ने घर- घर देवस्थापना कार्यक्रम संपन्न कराकर २४ लाख गायत्री मन्त्र लेखन किया और २४ सौ गायत्री चालीस पाठ.....

img

अश्वमेध गायत्री महायज्ञ- मंगलगिरी प्रयाज कार्यक्रम

२७ तेलुगु साधकों को मुन्स्यारी विशिष्ट साधना शिविर में भागीदारी। यह शिविर तेलुगु भाषा में दिनचर्या से लेकर गुरुदेव माताजी के प्रवचन तक सभी उनकी ही भाषा में अनुवादित कर दिया गया। लोगों को यह शिविर जीवन का भूतो न.....

img

हैदराबाद में डॉ. चिन्मय पंड्या जी का कार्यक्रम

६ जुलाई, हैदराबाद (तेलंगाना)डॉ. चिन्मय पंड्या जी का कार्यक्रमदोपहर १२:०० बजे NFI  में मीटिंग हुई।सायं ४:०० बजे गायत्री ज्ञान मंदिर बोइनपल्ली, सिकन्द्राबाद में युग वेदव्यास भवन की आधार शिला डॉ. चिन्मय पंड्या जी ने राखी। उपस्थित परिजनों को भविष्य में.....