शांतिकुंज आपदा प्रबंधन दल उत्तराखंड के केदारनाथ, गंगोत्री आदि क्षेत्र में बादल फटने से हुए पीड़ितों के सहायतार्थ रवाना हुआ। प्रशासन की अपील पर शांतिकुंज व्यवस्था की आपात बैठक हुई। जिसमें राहत सामग्री शीघ्र भेजने का निर्णय हुआ। भोजनलय प्रभारी जमुना विश्वकर्मा के नेतृत्व में भोजन निर्माण में दौ सौ साठ भाई-बहिनों ने भोजन तैयार किया।

शांतिकुंज आपदा प्रबंधन दल के प्रभारी व व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने बताया कि आज बाढ़ पीड़ितों के लिए भोजन के ५ हजार पैकेट  तथा ५०० कम्बल भेजे गये। उन्होंने बताया कि रास्ताhttp://news.awgp.org/var/news/251/PPD_2500N.jpg" align="right" height="116" width="157"> अवरुद्ध होने के कारण इसे प्रशासन हेलीकाप्टर के सहयोग से बाढ़ पीड़ितों तक पहुँचाएगा। उन्होंने बताया कि १९ जून को शांतिकुंज का आपदा प्रबंधन दल रवाना हुआ, जो कर्णप्रयाग व रुद्रप्रयाग में दस हजार क्षमता वाले नि:शुल्क भोजनालय चलायेगा। भोजन का कच्चा सामान चावल, आटा, दाल, चीनी, चायपत्ती आदि लेकर श्री विष्णु मित्तल के नेतृत्व में दल रवाना होगा।


    शांतिकुंज की अधिष्ठात्री शैल दीदी एवं अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या ने बाढ़ पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। उन्होंने बताया कि पीड़ितों की सेवा करना सच्चे अर्थों में ईश्वर सेवा है। उन्होंने कहा कि बादल फटने की इस विकट परिस्थिति में गायत्री परिवार की स्थानीय शाखाओं के सैकड़ों लोगों के सहयोग से शांतिकुंज का आपदा प्रबंधन दल ने राहत कार्य आरंभ कर दिया है। गायत्री परिवार के परिजन आपदा की इस घड़ी में सदैव की भाँति बढ़चढ़ कर सहयोग प्रदान करेंगे। ज्ञातव्य है कि अगस्त्यमुनि में देसंविवि के १६ युवाओं का दल १२ जून से सेवा कार्य में सक्रिय है।


*यात्रियों एवं उनके परिजनों की मदद एवं सूचना हेतु शान्तिकुंज में संचार व्यवस्थायुक्त नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जहाँ से निम्न दूरभाषों पर सूचना प्राप्त की जा सकती है-
. प्र.    - 09425079378
गुजरात  - 09258360930
उत्तराखण्ड- 09755444486
0135 28710334, 335
0135 6555523, 524


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....


Warning: Unknown: write failed: No space left on device (28) in Unknown on line 0

Warning: Unknown: Failed to write session data (files). Please verify that the current setting of session.save_path is correct (/var/lib/php/sessions) in Unknown on line 0