Published on 2023-04-02
img

श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी, श्रद्धेया जीजी ने बताए संकल्प सिद्धि के सूत्रसमर्पण एवं समन्वय कौशल के साथ मजबूत हो संगठन
गायत्री तीर्थ शान्तिकुञ्ज में 28 फरवरी से 4 मार्च 2023 तक गुजरात प्रान्त का राष्ट्रीय सक्रिय कार्यकर्ता शिविर चला। पूरे गुजरात से आए लगभग 650 प्राणवान कार्यकर्त्ताओं ने इसमें भाग लिया। समग्र शिविर सक्रियता, सुव्यवस्था और संकल्प की दृष्टि से स्वयं में एक आदर्श था। शान्तिकुञ्ज के कार्यकर्त्ताओं ने शिविर की जो सुन्दर व्यवस्थाएँ की थीं, उसे सभी ने एकमत से सराहा। परम पूज्य गुरुदेव की गुजरात के प्रति मान्यता और अपेक्षाओं की याद कार्यकर्त्ताओं को दिलाई गई। उल्लेखनीय है कि परम पूज्य गुरुदेव गुजरात को अपना बड़ा बेटा कहा करते थे। इस शिविर ने युग परिवर्तन के महायज्ञ में और आगामी जन्मशताब्दी वर्ष की योजनाओं में उसी स्तर की भूमिका निभाने के लिए कार्यकर्त्ताओ को प्रेरित किया, संकल्प उभरे।श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पण्ड्या जी एवं श्रद्धेया जीजी ने सभी से व्यक्तिगत भेंट की। सभी की कुशलक्षेम पूछने के साथ सफलता और संकल्प सिद्धि के लिए मार्गदर्शन भी किया। उन्होंने कहा कि युग परिवर्तन जैसे महान लक्ष्य के लिए अपने आराध्य के प्रति समर्पण की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। यदि समर्पण सच्चा है तो अपने साथियों की तमाम कमियों के रहते हुए भी उनकी विशेषताओं का उपयोग करने का कौशल आ ही जाता है। उन्होंने कहा कि परस्पर समन्वय और संगठित प्रयासों से बड़े से बड़ा लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। पहले दिन कार्यक्रम का शुभारंभ आदरणीय डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी के उद्बोधन से हुआ। (समाचार गत अंक में प्रकाशित हुए हैं।) शान्तिकुञ्ज के प्राय: सभी वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं ने अलग-अलग विषयों पर मार्गदर्शन दिया। डॉ. ओ. पी. शर्मा जी ने गुरुदेव की इच्छा को ही अपनी इच्छा बनाकर हर व्यक्ति तक उनका संदेश पहुँचाने का आग्रह किया। प्रो. प्रमोद भटनागर ने कहा कि गुरुदेव एक विचार हैं। विचारों की कोई जाति, कोई धर्म नहीं होता। हमें इन विचारों को समाज के हर व्यक्ति तक पहुँचाना है। हर व्यक्ति के विचारों को सही दिशा में मोड़ना है। आदरणीया शेफाली जीजी ने नारी सशक्तीकरण और सुश्री दीना त्रिवेदी ने व्यक्ति निर्माण, परिवार निर्माण और समाज निर्माण के सूत्र समसामयिक और अत्यंत व्यावहारिक उदाहरणों के साथ समझाये। गुजरात के प्रान्तीय संगठन की ओर से श्री अश्विनभाई जानी, श्री जयेशभाई बारोट, श्री रमेशभाई जोशी आदि ने सत्र की व्यवस्थाओं के प्रति जोन समन्वयक डॉ.ओ.पी. शर्मा, कार्यक्रम विभाग समन्वयक श्री श्याम बिहारी दुबे और विशेष रूप से गुजरात जोन समन्वयक श्री उदयकिशोर मिश्रा की पूरी टीम के प्रति धन्यवाद ज्ञापन किया। समग्र कार्यशाला का सार समझाते हुए उन्होंने नारा दिया-‘‘पूज्य गुरुदेव के विचारों को जनजन तक पहुँचाना है तो हमें जनसंपर्क बढ़ाना है।’’ इस संदर्भ में गुजरात के कार्यकर्त्ताओं ने शानदार संकल्प लिए। शिविर का समापन श्री शिव प्रसाद मिश्रा जी के विदाई संदेश के साथ हुआ। उन्होंने प्रहलाद, मीरा, एकलव्य जैसे भक्तिभाव के साथ गुरुसत्ता का ऋण चुकाने और समाज के दु:खदर्द को मिटाने के संकल्प के साथ जनजागरण अभियान में जुट जाने की प्रेरणा दी।       
प्रमुख संकल्प...195 यज्ञ (24 से 108 कुण्डीय तक)2001 यज्ञ (5 एवं 9 कुण्डीय तक) 30,832 देवस्थापनाएँ 5,654 सद्ग्रंथ स्थापना4,75,950 विद्यार्थी की भासंज्ञाप में भागीदारी616 ग्रामतीर्थ यात्राएँ781 विविध प्रकार के प्रशिक्षण शिविर 23,201 युगशक्ति गायत्री की सदस्यता 22,903 प्रज्ञा अभियान की सदस्यता275 बाल संस्कार शाला संचालन 49,541 वृक्षारोपण 1,021 विविध प्रकार के शिविर, सम्मेलन्


Write Your Comments Here:


img

समाज को सकारात्मकता एवं सृजनात्मक उत्कृष्टता की ओर प्रेरित करते कार्यक्रम

पीड़ित युवतियों के उत्थान के प्रयासरेस्क्यू फाउण्डेशन में जाकर मनाया जन्मदिवसबोरीवली, मुंबई। महाराष्ट्ररेस्क्यू फाउंडेशन देह व्यापार से छुड़ाई गई युवा लड़कियों के पुनर्वास के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था है, जो पूरे महाराष्ट्र में सक्रिय है। दिया, मुम्बई के.....

img

1126 जोड़ों का सामूहिक विवाह संस्कार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग प्रयाजराज की ओर से दिनांक 13 मार्च को सामूहिक विवाह का विशाल समारोह आयोजित किया गया। माघ मेला, परेड ग्राउण्ड में आयोजित इस संस्कार समारोह में 1126 जोड़ों ने और 18 मुस्लिम जोड़ों ने गृहस्थ.....

img

छत्तीसगढ़ में नारी सशक्तीकरण के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण

‘विजन 2026’ के साथ हो रहे हैं कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के प्रान्तीय संगठन द्वारा ‘विजन-2026’ को लेकर 11 मार्च से 25 अप्रैल 2023 तक बहिनों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर चलाया जा रहा है। यह प्रशिक्षण परम वंदनीया माताजी की जन्मशताब्दी वर्ष.....