देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी राष्ट्र नवनिर्माण में सहभागिता के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले। मुलाकात के दौरान गायत्री परिवार के अधिष्ठाता पं. श्रीराम शर्मा आचार्य की विचारधारा, युग निर्माण योजना और उसके शतसूत्री आयोजन पर लंबी चर्चाएं हुईं। डॉ. पण्ड्याजी ने गायत्री परिवार द्वारा चलाए जा रहे निर्मल गंगा जन अभियान, वृक्षगंगा अभियान एवं आपदा प्रबंधन में गायत्री परिवार की भूमिका के बारे प्रधानमंत्री को जानकारी दी। साथ ही शिक्षा के अभिनव प्रयोग के रूप में वेदमाता गायत्री ट्रस्ट द्वारा संचालित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय की गतिविधियों पर भी प्रकाश डाला।

डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि विद्यार्थियों में शिक्षा के साथ- साथ सुसंस्कारिता के समावेश के लिए देवसंस्कृति विश्वविद्यालय संकल्पित है।

शिक्षा और विद्या पर चर्चा करते हुए डॉ. पण्डयाजी ने कहा कि इन दोनों को जोड़कर शिक्षा को बेहतर बनाया जा सकता है। ऋषि प्रणीत शिक्षा प्रणाली को पुनर्जीवित करने का देवसंस्कृति विवि द्वारा शुरू से प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि ऋषि प्रणीत शिक्षा प्रणाली को हर विद्यालय एवं विश्वविद्यालयों में लागू किया जाए। इससे भारत के युवाओं में राष्ट्र निर्माण का भाव पैदा होगा।

वार्ता के दौरान प्रधानमंत्री मोदीजी ने गायत्री परिवार द्वारा केदारनाथ में किए गए आपदा प्रबंधन कार्यो की प्रशंसा की। उन्होंने अपनी उत्तराखंड यात्रा के दौरान शांतिकुंज आने के अपने अनुभव को याद किया। मोदीजी ने चारों धाम के विकास में गायत्री परिवार से सहयोग की अपेक्षा की।

इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या जी के साथ देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या भी उपस्थित थे।

For more :-
http://ianshindi.com/index.php?param=news/375789">http://ianshindi.com/




Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....