Published on 2017-11-13

प्रथम चरण के २० दिनों की उपलब्धियाँ

  • प्रतिदिन ५००- ६०० घरों से संपर्क हुआ।
  • १०,००० पुस्तकों के सेट ब्रह्मभोज योजना के अन्तर्गत बाँटे।
  • ३५ से ज्यादा प्रभातफेरियाँ, सार्वजनिक।
  • ११०० सद्वाक्य मंदिर, विद्यालय जैसे सार्वजनिक स्थानों पर लिखे।
  • अनेक स्कूलों और हजारों बच्चों से संपर्क हुआ।
जयपुर। राजस्थान
जयपुर के मानसरोवर क्षेत्र में २३ से २६ नवम्बर २०१७ तक की तारीखों में विशाल २५१ कुण्डीय देव संस्कृति पुष्टिकरण लोक आराधन महायज्ञ होने जा रहा है। इसके प्रयासस्वरूप ज्ञानरथों के माध्यम से चलाया जा रहा जनसंपर्क अभियान बड़ा सशक्त और अभूतपूर्व है।

मध्य प्रदेश के समर्पित कार्यकर्त्ताओं के सहयोग से इन दिनों जयपुर नगर में दो ज्ञानरथ जनसंपर्क अभियान में जुटे हैं। प्रात: प्रभातफेरी के साथ यह अभियान आरंभ हो जाता है। इसके माध्यम से प्रतिदिन अलग- अलग क्षेत्रों में ५०० से ६०० घरों तक पहुँचने, उन तक युगऋषि का साहित्य और महायज्ञ का आमंत्रण पहुँचाने में सफलता मिल रही है। दीपावली से पूर्व १७ तक सम्पन्न हुए २० दिनों के प्रथम चरण में इन ज्ञानरथों के माध्यम से सांगानेर, ब्रह्मपुर, वैशाली नगर, महारानी फार्म, महिन्द्रा सेज, मोज़माबाद, मानसरोवर क्षेत्रों में जनसंपर्क अभियान चलाया गया। दीपावली के बाद ज्ञानरथों के माध्यम से जनसंपर्क अभियान का दूसरा चरण आरंभ हो गया।


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....