Published on 2023-04-02
img

गायत्री तीर्थ शान्तिकुञ्ज एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय परिवार ने होली पर्व उसकी मूल भावना के अनुरूप पूरे आदर्श व अनुशासन के साथ मनाया। 7 मार्च की सायं दीपयज्ञ के साथ होलिका दहन का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। शान्तिकुञ्ज परिवार के अभिभावक श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं श्रद्धेया शैल जीजी की प्रमुख उपस्थिति में समस्त पूजन क्रम सम्पन्न हुआ। श्रद्धेय डॉक्टर साहब ने श्रद्धालुओं को पर्व की प्रेरणाओं का स्मरण कराया। उन्होंने कहा कि होली भारतीय संस्कृति में मानवीय मूल्यों की प्रतिष्ठा का एक प्रमुख पर्व है। यह समरसता का पर्व है। यह अमीर- गरीब, जाति-वर्ग जैसे समस्त भेद भुलाकर परस्पर गले मिलने और मनमुटाव मिटाने का पर्व है। इस अवसर पर होली के साथ जुड़ गई नशा जैसी तमाम विकृतियों की चर्चा करते हुए उनसे बचने तथा सुगंधित, प्राकृतिक हानिरहित रंगों के साथ होली खेलते हुए तन ही नहीं, मन की मलिनता को भी दूर करने की प्रेरणा उन्होंने दी।  होलिका दहन एवं पूजन का कर्मकाण्ड डॉ. गायत्री किशोर त्रिवेदी एवं श्री जितेन्द्र मिश्रा ने सम्पन्न कराया। हजारों आश्रमवासी, शिविरार्थियों ने विश्व के कल्याण की कामना के साथ यज्ञाहुतियाँ प्रदान कीं। नवसस्येष्टि यज्ञ के अंतर्गत गेंहूँ की बालों को भूनकर प्रसाद वितरित किया गया। होलिका दहन के समय श्रोतागण पूजन-परिक्रमा के साथ हर्ष और उल्लास से भरे होली के गीतों के संग झूमते रहे।धूलिवंदन के दिन का शुभारंभ श्रद्धेय द्वय से केशर, चंदन, यज्ञभस्म का तिलक लगवाकर हुआ। सभी आश्रमवासी, शिविरार्थी और देव संस्कृति विश्वविद्यालय के शिक्षकआचार्यों ने अनुशासित भाव से भरपूर उमंग और उल्लास के साथ होली मनाई


Write Your Comments Here:


img

समाज को सकारात्मकता एवं सृजनात्मक उत्कृष्टता की ओर प्रेरित करते कार्यक्रम

पीड़ित युवतियों के उत्थान के प्रयासरेस्क्यू फाउण्डेशन में जाकर मनाया जन्मदिवसबोरीवली, मुंबई। महाराष्ट्ररेस्क्यू फाउंडेशन देह व्यापार से छुड़ाई गई युवा लड़कियों के पुनर्वास के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था है, जो पूरे महाराष्ट्र में सक्रिय है। दिया, मुम्बई के.....

img

1126 जोड़ों का सामूहिक विवाह संस्कार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग प्रयाजराज की ओर से दिनांक 13 मार्च को सामूहिक विवाह का विशाल समारोह आयोजित किया गया। माघ मेला, परेड ग्राउण्ड में आयोजित इस संस्कार समारोह में 1126 जोड़ों ने और 18 मुस्लिम जोड़ों ने गृहस्थ.....

img

छत्तीसगढ़ में नारी सशक्तीकरण के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण

‘विजन 2026’ के साथ हो रहे हैं कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के प्रान्तीय संगठन द्वारा ‘विजन-2026’ को लेकर 11 मार्च से 25 अप्रैल 2023 तक बहिनों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर चलाया जा रहा है। यह प्रशिक्षण परम वंदनीया माताजी की जन्मशताब्दी वर्ष.....