Published on 2017-09-16

गायत्रीतीर्थ-शांतिकुंज के व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा आज अपनी गुरुसत्ता की सूक्ष्म चेतना में विलीन हो गये। उन्होंने पौने तीन बजे अंतिम श्वास ली। श्री शर्मा जी ने रॉ के इंस्पेक्टर पद से स्वेच्छिक सेवानिवृत्त लेकर गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं.श्रीराम शर्मा आचार्य जी के श्रीचरणों में अपना जीवन समर्पित कर दिया था। मूलतः राजस्थान के भीलवाड़ा के रहने वाले श्री शर्मा 73 वर्ष के थे और वे पिछले 35 वर्षों से शांतिकुंज में थे। श्री शर्मा अपने पीछे धर्मपत्नी श्रीमती यशोदा शर्मा, पुत्र रोहित, पुत्रवधु श्रीमती अंतिमा शर्मा तथा दो पोते छोड़ गये हैं।            

     श्री शर्मा गायत्री परिवार के रचनात्मक कार्यों में से पीड़ितों की सेवा के लिए सदैव तत्पर रहते थे। वे शांतिकुंज की आपदा प्रबंधन टीम के प्रभारी थे और विभिन्न आपदा राहत कार्यों में सक्रियता के साथ भागीदारी करने के लिए उत्साहित रहते थे। ऐसे कामों के लिए वे अपनी टीम को सतत प्रेरित करते रहते थे।
     गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या व शैलदीदी ने श्री शर्मा जी के निधन को अपूरणीय क्षति बताया। उन्होंने कहा कि समाज को उनके जैसे लोकसेवियों की आज नितांत आवश्यकता है। प्रज्ञा अभियान के संपादक श्री वीरेश्वर उपाध्याय, केसरी कपिल, हरीश ठक्कर, डॉ. ओपी शर्मा आदि वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं ने अश्रुपूरित भावों से विदाई दी। साथ ही शहर के विभिन्न संगठनों, आश्रमों के वरिष्ठ जनों ने भी श्रद्धांजलि दी। खड़खड़ी स्थित श्मशान घाट में उनके पुत्र रोहित शर्मा ने मुखाग्नि दी। इस अवसर शांतिकुंज के अंतेवासी कार्यकर्त्ता एवं शहर के अनेक लोग शामिल रहे।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....