Published on 2017-09-16

गायत्रीतीर्थ-शांतिकुंज के व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा आज अपनी गुरुसत्ता की सूक्ष्म चेतना में विलीन हो गये। उन्होंने पौने तीन बजे अंतिम श्वास ली। श्री शर्मा जी ने रॉ के इंस्पेक्टर पद से स्वेच्छिक सेवानिवृत्त लेकर गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं.श्रीराम शर्मा आचार्य जी के श्रीचरणों में अपना जीवन समर्पित कर दिया था। मूलतः राजस्थान के भीलवाड़ा के रहने वाले श्री शर्मा 73 वर्ष के थे और वे पिछले 35 वर्षों से शांतिकुंज में थे। श्री शर्मा अपने पीछे धर्मपत्नी श्रीमती यशोदा शर्मा, पुत्र रोहित, पुत्रवधु श्रीमती अंतिमा शर्मा तथा दो पोते छोड़ गये हैं।            

     श्री शर्मा गायत्री परिवार के रचनात्मक कार्यों में से पीड़ितों की सेवा के लिए सदैव तत्पर रहते थे। वे शांतिकुंज की आपदा प्रबंधन टीम के प्रभारी थे और विभिन्न आपदा राहत कार्यों में सक्रियता के साथ भागीदारी करने के लिए उत्साहित रहते थे। ऐसे कामों के लिए वे अपनी टीम को सतत प्रेरित करते रहते थे।
     गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या व शैलदीदी ने श्री शर्मा जी के निधन को अपूरणीय क्षति बताया। उन्होंने कहा कि समाज को उनके जैसे लोकसेवियों की आज नितांत आवश्यकता है। प्रज्ञा अभियान के संपादक श्री वीरेश्वर उपाध्याय, केसरी कपिल, हरीश ठक्कर, डॉ. ओपी शर्मा आदि वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं ने अश्रुपूरित भावों से विदाई दी। साथ ही शहर के विभिन्न संगठनों, आश्रमों के वरिष्ठ जनों ने भी श्रद्धांजलि दी। खड़खड़ी स्थित श्मशान घाट में उनके पुत्र रोहित शर्मा ने मुखाग्नि दी। इस अवसर शांतिकुंज के अंतेवासी कार्यकर्त्ता एवं शहर के अनेक लोग शामिल रहे।


Write Your Comments Here:


img

प्रशंसनीय पहल झूठन न छोड़ने की शपथ दिला रहे हैं

कई पार्षद, गणमान्यों ने भी ली शपथजयपुर। राजस्थानगायत्री परिवार जयपुर ने लोगों को झूठन न छोड़ने की प्रेरणा देने और संकल्प दिलाने का अभियान प्रारम्भ किया है। गायत्री शक्तिपीठ ब्रह्मपुरी और गायत्री चेतना केन्द्र मुरलीपुरा ने इसकी शुरूआत मुरलीपुरा के.....

img

कारागार में गायत्री ज्ञान मंदिर की स्थापना

बंदियों को ऊर्जा दे रहा है नियमित साप्ताहिक स्वाध्यायसतना। मध्य प्रदेश : स्थानीय गायत्री परिवार केंद्रीय कारागार सतना में महिला एवं पुरूष बंदियों के बीच रविवासरीय स्वाध्याय का क्रम चल रहा है। 19 फरवरी को स्वाध्याय में 51 महिला बंदी.....

img

महिला एवं बाल विकास विभाग और आँगनबाड़ी केन्द्रों द्वारा कार्यक्रमों का आयोजन

अलवर। राजस्थान सुघड़, स्वस्थ, संस्कारवान संतान की चाह किसे नहीं होती। गायत्री परिवार की अलवर शाखा गर्भवती माताओं की इस चाह को पूरा करने के लिए क्रान्तिकारी अभियान चला रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग और आँगनबाड़ी केन्द्रों की संचालिका.....