युवावस्था ही सामाजिक कार्य करने का श्रेष्ठ अवसर : डॉ चिन्मय पण्ड्या                 देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में आज युवा कल्याण व खेल मंत्रालय भारत सरकार के सौजन्य से राष्ट्रीय युवा नीति एवं राजीव गांधी खेल अभियान से युवाओं को जोड़ने के उद्देश्य से जन जागरण रैली निकाली गयी। रैली का शुभारंभ देवसंस्कृति विवि के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या व एनएसएस के राज्य संपर्क अधिकारी रमेशचन्द्र डिमरी ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर किया। यह रैली देसंविवि परिसर स्थित प्रज्ञेश्वर महादेव मंदिर से प्रारंभ होकर हरिपुर कलॉ, सप्तऋषि क्षेत्र होते हुए विवि परिसर लौट आई।                इस अवसर पर प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि युवावस्था ही सामाजिक कार्यों को करने का श्रेष्ठ अवसर होता है। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि ध्वंसात्मक दुष्प्रवृत्तियों, अशिष्टता एवं उच्छृंखलता को अपना लेना अति सरल है। छिछोरे साथी उठती आयु के बालकों को आसानी से गुमराह कर सकते हैं, पर शालीनता और सज्जनता का अभ्यासी बनाना उनके वश की बात नहीं। इसलिए हमें व्यक्तित्व के जोशीले और उच्छृंखल लोगों को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहिए, उनके प्रभाव और सान्निध्य से दूर रहना चाहिए, अन्यथा उनकी मैत्री अपने को उच्छृंखल बना देगी और वह स्थिति पैदा कर देगी, जिससे अपनी स्वय की और दूसरों की आँखों में अपना व्यक्तित्व गया-गुजरा और निकृष्ट स्तर का बन जाता है। एनएसएस के राज्य संपर्क अधिकारी रमेशचन्द्र डिमरी ने कहा कि एनएसएस जैसी संस्थाएँ सदैव युवाओं के उत्थान में जुटी है। सरकारी व विभिन्न सामाजिक संस्थानों के साथ मिलकर भी एनएसएस जन जागरण के कार्य में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेता है।                देसंविवि के एनएसएस के समन्वयक डॉ अरुणेश पाराशर के अनुसार भारत सरकार की राष्ट्रीय युवा नीति एवं युवाओं को खेलों में भागीदारी करने हेतु एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसके अंतर्गत देश के सभी 299 विश्वविद्यालयों के एनएसएस इकाई ने एक साथ में जनजागरण रैली निकाली। इसी संदर्भ में निकाली गयी इस रैली में देसंविवि विद्यार्थियों ने युवाओं को जाग्रत करने एवं खेलों के प्रति आकर्षित करने के विविध सूत्रों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कुछ विद्यार्थी अपने हाथ में युवाओं से संबंधित स्लोगन के तख्ती लिये चल रहे थे, तो वहीं कुछ छात्र-छात्राएँ ग्रामीणों को युवा कल्याण मंत्रालय द्वारा मुद्रित पाम्पलेट बाँट रहे थे, जिसमें युवाओं से खेल एवं उसके कल्याण से संबंधित विविध अपील की गयी है।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

संस्कारित युवा पीढ़ी के निर्माण से होगा राष्ट्र निर्माण: नीलिमा

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में स्थानीय रामकृष्ण आश्रम परिसर में जिला युवा प्रकोष्ठ द्वारा 5 दिवसीय युवा व्यक्तित्व निर्माण शिविर का आयोजन किया गया है | जहाँ शिविरार्थी योग, आसान, ध्यान  समेत आध्यात्मिक और बौद्धिक ज्ञान प्राप्त कर.....

img

नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व

Nepal 8/8/17:-अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में भारत देश की तरफ से अखिल विश्व गायत्री परिवार के (DIYA TEAM)  के सदस्य श्री पी डी सारस्वत व श्री अनुज कुमार वर्मा सम्मेलन में.....