राजनांदगांव. युगपुरूष स्वामी विवेकानंदजी की 150वीं जयंती गायत्री विद्यापीठ में बड़े हर्षोल्लास से सम्पन्न हुआ. सर्वप्रथम प्रातःकालीन संभा में स्वामी विवेकानंद जी के तैलचित्र पर पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ. संस्था के सचिव हरीश गांधीजी ने विवेकानंदजी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बतलाया कि वे 39 वर्ष की उम्र में इस देश की संस्कृति को पूरे विश्व में फैलाकर भाईचारा का संदेश दिया उन्होंने युवाओं से व्यसन से मुक्त रहने की अपील की है और एक श्रेष्ठ नागरिक बन समाज की सच्ची सेवा करने की बात कही. विद्यापीठ के सभी बच्चों ने व्यसन से मुक्त रहने का संकल्प लिया. संस्था के अध्यक्ष श्री नंदकिशोर सुरजन ने बच्चों से विवेकानंदजी के जीवन से प्रेरणा लेकर अच्छे इंसान बनने की बात कही. संस्था की प्राचार्या श्रीमती वत्सला अय्यर ने सभी बच्चों को युगनायक स्
वामी विवेकानंद जी के आदर्श चरित्र को जीवन में धारण करने का संकल्प दिखाया. सभी बच्चे विवेकानंद जी के जयंती के उपलक्ष्य में गायत्री शक्तिपीठ के एक विशाल व्यसन मुक्ति रैली निकाली जो सुरजन गली रामाधीन मार्ग, भारतमाता चौक, मानव मंदिर चौक, जूनीहटरी, गुड़ाखू लाईन से होते हुए पुनः गायत्री शक्तिपीठ पहुँची वहाँ पर बच्चों को लड्ढा परिवार ने सभी बच्चों को चाकलेट वितरित किया. रास्ते भर बच्चों ने नगरवासियों से व्यसन मुक्त रहने की अपील की.

बीड़ी सिगरेट, शराब, तंबाकू,
तन, मन, धन के ये सब डाकू,

बीड़ी पीकर खास रहा है,
मौत के आगे ना रहा है,
पीटती पत्नि, बिकते जेवर,
बदल शराबी अपने तेवर,   
और दिल्ली के हत्यारों को फाँसी दो, फाँसी दो ऐसे प्रेरणास्प्रद नारे लगाये.
गायत्री परिवार के श्री योगेश ने व्यसनमुक्ति के पाम्पलेट वितरित किये. कार्यक्रम को सफल बनाने में सुरेश नायर, श्री अमित उत्तलवार, श्रीमती रश्मि ठाकुर, डुमरे मेडम, अंजुम जहान, देव सर का महत्वपूर्ण योगदान रहा. स्वामी विवेकानंद, रामकृष्ण परमहंस, भगिनी निवेदिता, शारदा माँ की जीवंत झांकी भी प्रस्तुत की गई.
विवेकानंद जयंती के अवसर पर संस्था के श्री जुगल किशोर लड्ढा, जयंती भाई पटेल, प्रेम सिंघलजी, सुनील ठक्कर, राजेश सोनी, प्रफुल्ल परमार, संजय लड्ढा, बृजकिशोर सुरजन, उमेश अग्रवाल, मुरलीधर साहू जी ने सबको बधाई प्रेषित की है.
http://news.awgp.org/var/news/132/Gayatri_Vidya_Peeth_3.JPG" height="185" width="371">


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....