img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में चल रहे सामूहिक नवरात्रि साधना अनुष्ठान में कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्डया विद्यार्थियों को एकाग्रता बढ़ाने के लिए विशेष ध्यान करा रहे हैं। निकट भविष्य में होने वाली परीक्षा के मद्देनजर विद्यार्थी भी इसमें काफी रुचि ले रहे हैं।

            नवरात्र के छठवें दिन कुलाधिपति डॉ पण्ड्या ने चित्त को एकाग्र करने में सहायक साधना एवं ध्यान के गूढ़ रहस्यों की विस्तार से जानकारी दी, साथ ही ध्यान के वैज्ञानिक पक्षों की विवेचना करते हुए आद्य शक्ति के ध्यान की गहराई में वे साधकों को ले गये। इस गूढ़ विषय पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि अपने इच्छित कार्य की सफलता के लिए मन से कुंठा, चिंता व दूसरों की बुराई वाले विचारों को त्यागना ही सफलता की प्रथम सीढ़ी पार करना है। इसके अनेक उदाहरण हमारे संत-महात्मा व महापुरुषों की जीवनी से मिलता है।

            रामचरित मानस का जिक्र करते हुए कुलाधिपति ने कहा कि जप, तप, व्रत, संयम, नियम से गुुरु व गोविन्द की कृपा प्राप्त की जा सकती है। उन्होंने श्रीराम एवं लक्ष्मण आदि अवतारी चेतनाओं द्वारा की गई लीलाओं से सीख लेते हुए श्रद्धा, क्षमा, मैत्री जैसे सद्गुणों को साधकों को जीवन में उतारने की बात कही। इससे पूर्व कुलाधिपति ने छात्र-छात्राओं के आध्यात्मिक, व्यावहारिक सहित विभिन्न शंकाओं का समाधान किया। इस अवसर पर कुलपति डॉ एसडी शर्मा, कुलसचिव संदीप कुमार, शरद पारधी सहित देसंविवि, शांतिकुंज, ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान एवं देश के विभिन्न शहरों से आये साधकगण उपस्थित थे।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....