img

  •  शांतिकुंज कोई धर्मशाला या पर्यटन स्थल नहीं, एक आश्रम है, अकादमी है जहाँ आध्यात्मिक जीवन जीने का प्रशिक्षण दिया जाता है। अतः यहाँ चलने वाले विभिन्न शिविरों में केवल साधनात्मक मनोभूमि के लोग ही आयें।
  •  जो परिजन पर्यटन की दृष्टि से हरिद्वार आ रहे हैं, वे अपने आवास की व्यवस्था अन्यत्र ही करें। वे वहाँ रहकर भी शांतिकुंज आकर यज्ञ, दर्शन, प्रणाम आदि कर सकते हैं।
  •  प्रत्येक शिविर में प्रातः जागरण से लेकर रात्रि शयन तक शांतिकुंज की व्यस्त दिनचर्या का पालन अनिवार्य होता है। इनमें पर्यटन के लिए अवकाश निकाल पाना संभव नहीं होता। 
  •  शांतिकुंज आने वाले परिजन अपने साथ सरकारी मान्यता प्राप्त कोई पहचान पत्र अवश्य लेकर आयें। 
  •  परिजनों से निवेदन है कि वे पर्यटन के लिए आ रहे लोगों को शांतिकुंज में ठहरने की अनुशंसा के साथ बिलकुल न भेजें।


Write Your Comments Here:


img

ऑनलाइन योग सप्ताह आयोजन द्वादश योग :गायत्री योग

परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित पुस्तक  गायत्री योग, जिसके अंतर्गत द्वादश योग की चर्चा की गई है, का ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पांच दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया| इस कार्यक्रम में विशेष आकर्षण वीडियो कांफ्रेंस.....

img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....