img









  • माँ गायत्री चेतना केन्द्र वाघोली द्वारा ईको फ्रैण्डली होली मनायी गयी। परिजनों ने इस अवसर पर लकड़ी जलाने नहीं, वृक्ष लगाने की प्रेरणा लोगों को दी। ईको फ्रैण्डली होली की विशेषताएँ इस प्रकार थीं। 
  •  लकड़ी की जगह नारियल की जटा और घास-फूस दहन कर होलिका दहन का प्रतीक पूजन किया गया। 
  •  लोगों ने अपने दोष-दुर्गुण कागजों पर लिखकर उनकी आहुतियाँ देते हुए उन्हें छोड़ने के संकल्प लिये। 
  •  त्रिधा समता देवी का पूजन करते हुए लोगों को लड़का-लड़की में भेद न करने और कन्याभ्रूण हत्या न करने, न होने देने के संकल्प दिलाये। 
  •  लोगों को फूल, हल्दी, चंदन, मुल्तानी मिट्टी जैसे प्राकृतिक पदार्थों से बने रंगों से होली खेलने और जहरीले रासायनिक रंगों से बचने की प्रेरणा दी गयी। 
  •  जल संरक्षण की जरूरत बतायी।
  •  पंछियों के लिए घर की छतों पर पानी रखने का आग्रह किया। 


Write Your Comments Here:


img

नशाबन्दी अभियान का 69वाँ सप्ताह

उपजेल सोनकच्छ में कार्यक्रम आयोजित देवास। मध्य प्रदेश गायत्री परिवार देवास द्वारा चलाये जा रहे साप्ताहिक नशाबन्दी अभियान का.....