बच्चों के व्यक्तित्व विकास के कार्यक्रमों को मिल रहा है शानदार जनसमर्थन

Published on 2017-12-26

कीर्तिमान रचे 
प्रथम रहा इंदौर

इंदौर (मध्य प्रदेश)
गायत्री शक्तिपीठ केसरबाग पर भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित हुआ। डॉ. सरोज जैन ने इसे संबोधित करते हुए भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा की इंदौर जिले में असाधारण सफलता को समाज में चारों ओर फैली नकारात्मकता से संघर्ष की दिशा में एक शानदार सफलता बताया। डॉ. गणेश कावड़िया ने इस सफलता को समाज के उत्थान के लिए गायत्री परिवार द्वारा किये जा रहे निःस्वार्थ प्रयासों का परिणाम बताया। श्री मदन मोहन खण्डेलवाल संयोजक भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा ने बताया कि वर्ष २०१३ में इंदौर के ६५० स्कूलों एवं १२ महाविद्यालयों के ५० हजार छात्र-छात्रा शामिल हुए थे। इंदौर को मध्य प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। 

समारोह में स्वागत भाषण श्रीमती उषा तिवारी ने दिया। श्री के.सी. शर्मा-उपजोन समन्वयक बच्चों को सद्गुणों को जीवन में धारण करने की प्रेरणाएँ दीं। कार्यक्रम का संचालन श्री के.एल. सोनगरा एवं श्री जी.डी. गुप्ता ने किया। 

राजस्थान में चौथा स्थान

चित्तौड़गढ़ (राजस्थान)
चित्तौड़गढ़ जिले में वर्ष २०१३ में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन गायत्री परिवार और शिक्षा विभाग चित्तौड़गढ़ के संयुक्त तत्त्वावधान में हुआ। इसमें कुल ४३००० विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए, चित्तौड़गढ़ जिला प्रांत में चौथे स्थान पर रहा। जयपुर में आयोजित प्रांतीय समारोह में राज्य के शिक्षामंत्री श्री कालीचरण सर्राफ ने प्रांतीय प्रभारियों और अनेक गणमान्यों की उपस्थिति में सम्मानित किया। 

कोलकाता के विद्यालयों में आयोजित हो रही हैं कार्यशालाएँ

कोलकाता (प. बंगाल)
ब्रह्मभोज साहित्य प्रचार ट्रस्ट कोलकाता द्वारा विद्यालयों में नैतिक शिक्षा पर आधारित कार्यशालाएँ आयोजित की जा रही हैं। इनमें पावर पॉइंट के माध्यम से सामाजिक सरोकारों के प्रति विद्यार्थियों को जागरूक किया जा रहा है। उन्हें शैक्षिक दक्षता हासिल करने के साथ आहार, विहार, आसन, प्राणायाम संबंधी जानकारियाँ भी दी गयीं। कार्यशालाओं में सघन विचार मंथन के बाद विद्यार्थियों को नशा न करने, गंगा एवं अन्य जलाशयों को गंदा न करने, जल की बरबादी रोकने, बहिनों के प्रति सम्मान का भाव बढ़ाने, बिना दहेज के विवाह करने जैसे सामूहिक संकल्प दिलाये गये। बच्चों को वैदिक रीति-रिवाजों के साथ जन्म दिवस मनाते हुए अपने जीवन को गुणवान बनाने के निरंतर प्रयास करने की प्रेरणाएँ दी गयीं। 

६ व १० मार्च की तारीखों में शिक्षा सदन हाईस्कूल (बालक), हावड़ा में; १३, २० एवं २६ मार्च को शिक्षा सदन हाईस्कूल (बालिका), हावड़ा में तथा २० से २८ मार्च के बीच शालीमार हिंदी हाईस्कूल हावड़ा में यह कार्यशालाएँ आयोजित की गयीं। विद्यालय प्रधानाचार्य सहित सभी शिक्षक-शिक्षिकाएँ गायत्री परिवार के प्रयासों से प्रसन्न हुए और हार्दिक सहयोग दिया। इनके संचालन में देसंविवि के परिवीक्षाधीन छात्र सुमित शर्मा और हरिओम शर्मा ने भी प्रशंसनीय योगदान दिया। 

जनमत

गायत्री परिवार कर रहा है नैतिक-चारित्रिक विकास-देवमणि भारती

भोपा, मुजफ्फरनगर (उ. प्र.)
एमएम जूनियर हाईस्कूल भोपा में एक प्रेरणाप्रद आयोजन के साथ गायत्री परिवार ने भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के पुरस्कारों का वितरण किया। एआरटीओ श्री देवमणि भारती कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के माध्यम से गायत्री परिवार द्वारा किये जा रहे प्रयास बच्चों के नैतिक और चारित्रिक विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। उन्होंने अपने पिता के गुरुदेव से संपर्क और अखण्ड ज्योति पत्रिका के जीवन में पड़ने वाले प्रभाव की चर्चा कर लोगों में गुरुदेव और मिशन के प्रति आस्था बढ़ाई। 
एमएम जूनियर हाईस्कूल के प्रधानाचार्य श्री नरेन्द्र राठी व उनके कई साथियों ने प्रशंसनीय योगदान दिया। गायत्री परिवार की ओर से डॉ. ओमपाल सिंह चौहान एवं श्री सुधीश कुमार हवलदार प्रमुख आयोजक थे। 

बच्चे सद्गुणों की उपासना करें, अवगुणों से बचें- मेजर चंद्रशेखर मिश्र

सरीला, हमीरपुर (उत्तर प्रदेश)
तहसील सरीला का भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा पुरस्कार वितरण समारोह २० फरवरी को आयोजित हुआ। जिला संयोजक श्री चंद्रशेखर मिश्र और पूर्व चेयरमेन मुंशी बारेलाल ने इस समारोह में वरीयता प्राप्त विद्यार्थियों, सर्वाधिक छात्र संख्या शामिल करने वाले विद्यालय और शत-प्रतिशत छात्र शामिल करने वाले विद्यालय को सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होंने बच्चों को जीवन के स्वस्थ्य विकास के लिए नशे से दूर रहने और गायत्री उपासना करने की प्रेरणा दी। तहसील संयोजक डॉ. जगदीश अड़जरिया एवं श्री प्रतिपाल सिंह शिक्षक के विशेष प्रयासों से तहसील के २००० विद्यार्थियों ने परीक्षा में भागीदारी की। 




img

सभ्य समाज के निर्माण में चिकित्सकों का योगदान

गाज़ियाबाद में हुए दो सेमीनार, गर्भवती बहनों में जागरूकता बढ़ाएँगे३५० चिकित्सकों ने लाभ लिया।अपने क्लीनिक के स्वागत कक्ष पर पोस्टर, बैनर, हैंगर टांगने तथा ब्रोशर व संबंधित पुस्तक, संबंधित टीवी प्रेज़ेण्टेशन आदि माध्यमों से गर्भवती बहनों को इस संदर्भ में.....

img

झुग्गी-झोपड़ियों के बच्चों को सँवारेगा शांतिकुंज

२७ नवंबर को हरकी पौड़ी के निकटवर्ती झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले बच्चों के लिए नई बाल संस्कार शाला का शुभारंभ हुआ।  शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र एवं हरिद्वार के एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके की धर्मपत्नी श्रीमती शीबा केके.....

img

अलवर में अनेक स्थानों पर बाल संस्कारशाला का सफल सञ्चालन

अलवर  | Rajasthanअलवर में चल रही है बाल संस्कार शाला के दृश्य |  महाराणा प्रताप बाल संस्कार शाला, प्रताप नगर,  पंडित दीनदयाल बाल संस्कार शाला,  आदर्श कॉलोनी, गोस्वामी तुलसीदास बाल संस्कार शाला, किशनगढ़ (अलवर),  संत कबीर बाल संस्कार शाला किशनगढ़(अलवर) | .....