अश्वमेध यज्ञ आयोजकों का अभिनंदन

Published on 2017-12-23
img



दक्षिण जोन प्रभारियों द्वारा अश्वमेध महायज्ञ, बैंगलोर के यशस्वी, लोकप्रिय आयोजन में अग्रणी भूमिका निभाने वाले कार्यकर्त्ताओं और सहयोगी रहे विभिन्न समाजों को सम्मानित करने के लिए ३० मार्च को मिलन समारोह का आयोजन किया गया। जोन प्रभारी शांतिकुंज प्रतिनिधि डॉ. बृजमोहन गौड़ और जोन समन्वयक श्री अश्विनी सुब्बाराव ने युग निर्माण आन्दोलन में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए उन सबका आभार व्यक्त किया, उत्साहवर्धन करने के साथ उन्हें सम्मानित किया। 

 दोड्डानाकुण्डी, महादेवपुरा क्षेत्र की गोशाला में यह मिलन समारोह आयोजित हुआ। श्री उत्तम गायकवाड़, शांतिकुंज प्रतिनिधि ने अश्वमेध यज्ञ के अपने अनुभव साझा किये। उन्होंने राजपुरोहित समाज, माहेश्वरी समाज, पटेल समाज की सेवाओं को विशेष रूप से सराहा। 

डॉ. बृजमोहन गौड़ ने गायत्री अश्वमेध महायज्ञ, बैंगलोर को एक ऐतिहासिक आयोजन बताया। उन्होंने कहा कि समाज में बदलाव आरोप-प्रत्यारोपों से नहीं, दृढ़ संकल्प और प्रखर पुरुषार्थ से आते हैं। परम पूज्य गुरुदेव के अनेक आश्वासनों का स्मरण दिलाते हुए उन्होंने कहा कि समाज को सच्ची राह दिखाना ईश्वर की सच्ची आराधना है, जिसके सुखद परिणाम अवश्यंभावी हैं। 

श्री सुब्बाराव ने व्यक्तिगत अनुभव बताते हुए गुरुदेव के प्रति सभी की श्रद्धा-निष्ठा बढ़ायी। अभूतपूर्व प्रतिभा के धनी श्री ज्ञानरंजन मलिक एवं मोहित जी ने बाँसुरी और तबले की धुन पर नादयोग कराते हुए सभी को ध्यान के सागर में गोते लगवाये।

बैंगलोर के सभी ९ जोन के प्रतिनिधियों की बैठक हुई, जिसमें अश्वमेध के अनुयाज की एक वर्षीय रूपरेखा निर्धारित की गयी। बैंगलोर में स्थायी केन्द्र के निर्माण पर भी चर्चा हुई। श्री हरिशंकर राजपुरोहित, श्री राजेश सिंह, श्री संग्राम सिंह ने कार्यक्रम के आयोजन में अग्रणी भूमिका निभाई। 


img

साउथ कोलकाता गायत्री परिवर दवारा निर्मल गंगा सफाई अभियान

खिदिरपुर से बिरल!पुर तक गंगा घाट सफाई एवं गंगा आरती क्षेत्रीय परिजनों द्वारा बड़े उलाश,उत्साह के साथ सम्पन्न किया गया,7 घाटो की सफाई साउथ कोलकाता गायत्री परिवर द्वारा किया गया,.....

img

Shanti Kunj volunteers, NGOs launch campaign to clean Ganga

HARIDWAR: The Gayatri Pariwar, a social organisation based at Shanti Kunj in Haridwar, launched a massive campaign to clean the Ganga on Ganga Janmotsav day (Ganga Saptami) on Sunday.Groups of volunteers with buckets and brooms in their hands descended at.....