गायत्री जयंती

img


गायत्री जयंती का पुण्यपर्व इस वर्ष ८ जून, रविवार  के दिन है। गंगा और गायत्री, दोनों ही दुर्लभ देवतत्त्वों का आविर्भाव एक ही दिन ज्येष्ठ शुक्ल दशमी को हुआ। इस दृश्य गंगा और अदृश्य गायत्री में बड़ा ही साम्य है। गायत्री की एक शक्ति का नाम मंदाकिनी भी है। इसका अवगाहन पापों के प्रायश्चित एवं पवित्रता संवर्द्धन के लिए किया जाता है। गंगा अंतर में पवित्रता भरती है और पापकर्मो से निवृत्ति प्रदान करती है, लेकिन गायत्री पाप-प्रवृत्ति को ही निर्मूल कर देती है। गायत्री से अंत:करण पवित्र होता है, कषाय -कल्मषों के कुसंस्कारों से त्राण मिलता है। दोनों को एक ही लक्ष्य का स्थूल एवं सूक्ष्म प्रतीक माना जाता है।

For more:-
http://literature.awgp.org/magazine/AkhandjyotiHindi/2010/June.19

img

शांतिकुंज में मनाया जायेगा गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज का ३५० प्रकाशोसत्व

सभी सिक्ख भाई- बहिनों को भावभरा आमंत्रण

वर्ष २०१७- १८ में देशभर में सिक्ख मतावलम्बियों के दशम गुरु गुरु गोविंद सिंह जी महाराज के ३५०वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में समारोह आयोजित हो रहे हैं। अखिल विश्व गायत्री परिवार भी २२ अगस्त.....

img

नव सृजन युवा संकल्प समारोह, नागपुर

नव सृजन युवा संकल्प समारोह, नागपुर दिनांक 26, 27, 28 जनवरी 2018
यौवन जीवन का वसंत है तो युवा देश का गौरव है। दुनिया का इतिहास इसी यौवन की कथा-गाथा है।  कवि ने कितना सत्य कहा है - दुनिया का इतिहास.....


Write Your Comments Here: