img


प्रांतीय युवा सम्मेलन में खरगोन को ‘युग निर्माण जिला’ तथा पाँच गाँवों को आदर्श गाँव बनाने का संकल्प लिया

सनावद, खरगोन (म.प्र.)
वर्ष २०१४ का मध्य प्रदेश का प्रांतीय युवा सम्मेलन सनावद क्षेत्र के आध्यात्मिक ऊर्जा सम्पन्न गणेश मंदिर परिसर हथिया बाबा में ९ से ११ मई की तारीखों में सम्पन्न हुआ। रचनात्मक सक्रियता को निरंतर नयी दिशा देने के लिए विख्यात् मध्य प्रदेश की तरुणाई ने इस सम्मेलन में भी कुछ नये प्रयोग करते हुए युग निर्माण आन्दोलन को गति देने के प्रशंसनीय और अनुकरणीय कार्य किये। देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या सम्मेलन के मुख्य वक्ता थे। शांतिकुंज में जोनल प्रकोष्ठ समन्वयक श्री कालीचरण शर्मा और आन्दोलन प्रकोष्ठ समन्वयक श्री के.पी. दुबे की विशेष उपस्थिति में यह आयोजन सम्पन्न हुआ। 

विशिष्ट व्यावहारिक प्रयोग
कार्यक्रम में प्रांत के सभी जिलों से आये १५०० कार्यकर्त्ताओं ने भाग लिया। इसमें सैद्धांतिक विवेचना और उत्साहवर्धन के साथ सृजनात्मक आन्दोलनों के व्यावहारिक प्रशिक्षण पर अधिक बल दिया गया। प्रत्येक सत्र में ४५ मिनट के सैद्धांतिक उद्बोधन होते थे, जो प्रायः शांतिकुंज के प्रमुख कार्यकर्त्ताओं द्वारा दिये जाते थे। उसके बाद सवा घंटे का प्रायोगिक प्रशिक्षण का क्रम रहा। प्रदेश में विविध आन्दोलनों का कुशलता पूर्वक संचालन कर रहे शांतिकुंज और क्षेत्र के कार्यकर्त्ताओं ने यह दायित्व निभाया। हर आन्दोलन को गति देने के उपाय और उसमें आने वाली चुनौतियों के बारे में बड़ी बारीकी से जानकारी दी। विषय विशेषज्ञ शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री के.पी. दुबे (निर्मल जल गंगा, तीर्थ शुद्धि, कुरीति उन्मूलन, नारी जागरण), श्री आशीष सिंह (बाल संस्कार शाला), श्री मेवालाल पाटीदार (साधना, स्वास्थ्य एवं गो संवर्धन), श्री जितेन्द्र चौहान (श्रीराम उपवन-हर्बल गार्डन), श्री मनोज तिवारी (वृक्षगंगा अभियान), श्री आनंद विजयवर्गीय (युवा जागरण), श्री योगेन्द्र गिरी (जलसंरक्षण, जल की खेती) आदि ने आन्दोलनों की जानकारी दी। 

युग निर्माण में युवाओं की भूमिका
गायत्री परिवार की क्रांतिकारी सक्रियता पूरे निमाड़ में दिखाई देती है। गाँव-गाँव में मिशन फैला है। मीडिया भी बड़े सम्मान और श्रद्धा से इस अभियान का स्वागत करता है। युवा चेतना शिविर के दिनों सभी राष्ट्रीय क्षेत्रीय समाचार पत्रों ने शांतिकुंज प्रतिनिधियों का संदेश विस्तार से प्रकाशित किया। डॉ. चिन्मय जी ने कहा-

भारत का स्वस्थ और समग्र विकास गाँवों के विकास से ही संभव है। हमारे गाँव ऐसे हों जहाँ का प्राकृतिक वातावरण नगरवासियों को भी शिक्षा, स्वावलम्बन और स्वास्थ्य लाभ के लिए आकर्षित करे। अपनी सनातन संस्कृति को ऐसे ही वातावरण में पुनर्जीवित करना संभव है। आज की शहरी संस्कृति को समाप्त किये बिना हम उसकी महानता की अनुभूति नहीं कर सकते। परम पूज्य गुरुदेव के इस स्वप्र को नयी सोच वाले युवा अपनी साधना की शक्ति से निश्चित रूप से साकार कर सकते हैं। 


Write Your Comments Here:


img

संस्कारित युवा पीढ़ी के निर्माण से होगा राष्ट्र निर्माण: नीलिमा

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में स्थानीय रामकृष्ण आश्रम परिसर में जिला युवा प्रकोष्ठ द्वारा 5 दिवसीय युवा व्यक्तित्व निर्माण शिविर का आयोजन किया गया है | जहाँ शिविरार्थी योग, आसान, ध्यान  समेत आध्यात्मिक और बौद्धिक ज्ञान प्राप्त कर.....

img

नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व

Nepal 8/8/17:-अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में भारत देश की तरफ से अखिल विश्व गायत्री परिवार के (DIYA TEAM)  के सदस्य श्री पी डी सारस्वत व श्री अनुज कुमार वर्मा सम्मेलन में.....

img

नव सृजन युवा संकल्प समारोह, नागपुर

नव सृजन युवा संकल्प समारोह, नागपुर दिनांक 26, 27, 28 जनवरी 2018
यौवन जीवन का वसंत है तो युवा देश का गौरव है। दुनिया का इतिहास इसी यौवन की कथा-गाथा है।  कवि ने कितना सत्य कहा है - दुनिया का इतिहास.....