• २४ कुण्डीय यज्ञों के साथ चलाया जा रहा है अभियान ः २४०० अशोक वृक्ष लगाने का संकल्प
छिन्दवाड़ा (म.प्र.)
प्रज्ञा मण्डल पातालेश्वर द्वारा २४ कुण्डीय गायत्री महायज्ञों के २४ आयोजनों के माध्यम से पूज्य गुरुदेव का पावन संदेश घर-घर पहुँचाने एवं संकल्प पूर्वक २४०० अशोक वृक्ष लगाने-संरक्षित करने का अभियान चलाया गया है। समाचार भेजे जाने तक ऐसे १८ कार्यक्रम आयोजित किये जा चुके थे। उल्लेखनीय है कि प्रज्ञा महिला मण्डल पातालेश्वर की बहिनों की टोली इनका संचालन करते हुए नगर-ग्राम के हजारों लोगों में प्रगतिशील आस्था को जन्म दे रही है, प्रगतिशील मानसिकता के बुद्धिजीवियों-पर्यावरणविदों को आकर्षित कर रही है। 

प्रत्येक पखवाड़े में नये-नये स्थानों पर गायत्री महायज्ञों का आयोजन होता है। महिला मण्डल की ओजस्वी वक्ता सुश्री लता विश्वकर्मा की टोली लोगों को वृक्षों का आध्यात्मिक, स्वास्थ्य परक और पर्यावरण पर आये भीषण खतरे की दृष्टि से वृक्षों का महत्त्व बताती हैं। श्रीमती ममता श्रीवात्री, श्रीमती शिवरी विश्वकर्मा, श्रीमती कौशल्या माहोरे, श्रीमती ज्योति यादव एवं श्रीमती कैकई पहाड़े की टोली अपने भावभरे गीत और प्रभावशाली कर्मकाण्ड से श्रद्धालुओं को पर्यावरण की रक्षा के लिए प्रेरित करती हैं। अशोक की पौध रोपने और पुत्र-मित्रवत् उसका पालन-पोषण करने के लिए संकल्पित लोगों को गायत्री परिवार की ओर से विधिवत् पूजा-अर्चना के साथ निःशुल्क पौध उपलब्ध करायी जाती है। 

कन्या शिक्षा की नैष्ठिक सेवा से मिले बड़े दायित्व

पुष्कर, अजमेर (राजस्थान)
राजस्थान सरकार के विश्वविद्यालय से संबद्ध महाविद्यालयों के प्राचार्यो में से गायत्री शक्तिपीठ द्वारा संचालित कन्या महाविद्यालय, पुष्कर के प्राचार्य डॉ. सुरेश वैष्णव का मनोनयन महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय की शैक्षणिक परिषद में किया गया है। वे पिछले पच्चीस वर्षो से ग्रामीण इलाकों की लड़कियों को शिक्षित करके  समाज और देश की सेवा कर रहे है।


Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....