ग्रामीण अंचलों में उभरी युग निर्माणी आस्था

राघौगढ़, गुना (म.प्र.)
राघौगढ़ तहसील के ग्राम पारकना में ५ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ एवं प्रज्ञापुराण का आयोजन हुआ। नन्हीं ग्रामीण कन्याओं को देवियों जैसा सम्मान देते हुए आयोजकों ने उनके मस्तक पर पवित्र कलश स्थापित कर कलश यात्रा निकाली। 

कलश यात्रा के समापन पर   राघौगढ़, कुम्भराज व एनएफएल गायत्री परिवार के प्रज्ञा परिजनों को कार्यक्रम के उद्देश्यों की जानकारी दी गयी। कथा व्यास श्री रामस्वरूप भारद्वाज ने सायंकाल की कथा में ग्रामीणों को मानव जीवन की गरिमा समझाते हुए उसे संस्कारवान् बनाने के सूत्र दिये। यज्ञ में ग्राम पारकना, प्रेमगढ़ व आसपास के दर्जनों गाँवो के श्रद्धालुओं ने आत्म कल्याण और सबकी भलाई की प्रार्थना के साथ गायत्री मंत्र की आहुतियाँ समर्पित कीं। यज्ञ के समय नामकरण, यज्ञोपवीत, जन्मदिवस, पुंसवन, गुरुदीक्षा व विद्यारंभ संस्कार बड़ी संख्या में हुए। इस अवसर पर उपजोन प्रभारी नारायण प्रसाद शर्मा, व जे.पी. त्यागी सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।


देपालपुर, इंदौर (म.प्र.)
एकतासा, इंदौर में पहली बार प्रज्ञापुराण कथा एवं गायत्री यज्ञ का आयोजन हुआ। २५० से अधिक लोगों ने इसमें भाग लिया। ग्रामीणों ने गायत्री मंत्र की दीक्षा ली, यज्ञोपवीत एवं अन्यान्य संस्कार भी बड़ी संख्या में कराये। १५ युवाओं ने व्यसन (तम्बाकू,बीड़ी, जर्दा, शराब, मांस आदि) छोड़ने का संकल्प लिया। २५ घरों में प्रज्ञा पुराण और अनेक घरों में देवस्थापना हुई। 

कथा वाचक श्री ओ.पी. जाधव द्वारा बताये व्यक्ति निर्माण, परिवार निर्माण और समाज निर्माण के सूत्रों ने ग्रामीणों को खूब प्रभावित किया। उन्होंने हर वर्ष ऐसा कार्यक्रम कराने का निर्णय लिया।  उप जोन समन्वयक श्री के.सी.शर्मा, श्री अविनाश मिठास, श्री किरण दशोंदी पीथमपुर, श्रीमती लक्ष्मी जाधव, मुकेश गुप्ता ने आयोजन में विशेष योगदान दिया। श्री प्रभु पटेल, पीयूष माथुर, नमन भट्ट  एवं आस-पास के गांवों के समस्त गांववासी परिजनों ने मिलकर २६ से २९ अप्रैल की तारीखों में यह सुंदर आयोजन सम्पन्न कराया।


Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....