img


तिनसुकिया (असम)
असम मूल निवासी आदिवासी समुदाय में साधना और संस्कारों के प्रति रुचि जगाने के लिए एक विशेष अभियान चलाया है इसी समुदाय के नैष्ठिक युग निर्माणी साधक श्री कृष्णा कर्मकार ने। वे वनवासी समुदाय के लोगों का विधि-विधान से विवाह करा रहे हैं, उन्हें पत्रिकाओं के सदस्य बना रहे हैं और गायत्री मंत्र की दीक्षा भी दे रहे हैं। 

असम के वनवासियों में विवाह संस्कार जैसी कोई परंपरा नहीं है। इसीलिए वे परिवार निर्माण के प्रति जागरूक भी दिखाई नहीं देते। श्री कृष्णा कर्मकार ने लोगों को समझाकर लोगों को दाम्पत्य जीवन की महिमा और गरिमा समझाना आरंभ किया है। वे परम्पराओं को बदल कर नवदम्पतियों के विधि-विधान से उनके विवाह करा रहे हैं। इस अवसर पर वे न केवल नवदम्पतियों को सुखी गृहस्थ जीवन के सूत्र बताते हैं, बल्कि नियमित उपासना, साधना की महत्ता बताकर दीक्षा दिलाते हैं, पत्रिकाओं के सदस्य बनाते हैं। अब तक वे ५२५ ऐसे विवाह सम्पन्न करा चुके हैं। इस आंदोलन से रूपाई तिनसुकिया डिब्रूगढ़ में नई जागृति आ रही है।


Write Your Comments Here:


img

गुण, कर्म, स्वभाव का परिष्कार करने वाली विद्या को प्रोत्साहन मिले। श्रद्धेय डॉ. प्रणव जी

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का 35वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह 21 जुलाई 2019 को कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी की अध्यक्षता में.....

img

शिक्षण संस्थानों में परिचय के नाम पर उत्पीड़न नहीं, विद्यारंभ संस्कार होना चाहिए

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री का संदेश   यह ज्ञानदीक्षा समारोह जीवन के.....

img

तीर्थनगरी हरिद्वार में पाँच कार्यक्रम हुए शान्तिकुञ्ज के वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने दिये प्रभावशाली संदेश

हरिद्वार। उत्तराखंड तीर्थ नगरी हरिद्वार में श्री आर.डी. गौतम एवं उनके सहयोगियों के प्रयासों से पाँच स्थानों पर गुरुपूर्णिमा.....