• चिंतन शिविर में दायित्वों का स्मरण 
राजिम (छत्तीसगढ़) 
गायत्री शक्तिपीठ राजिम में एक दिवसीय उपजोन स्तरीय बैठक आयोजित हुई। उपजोन समन्वयक ने इसे संबोधित करते हुए नैष्ठिक परिजनों को उनके दायित्व का पुनर्बोध कराया।   झोला पुस्तकालय एवं समूह साधना का महत्व बताया गया। उन्होंने कहा कि परम पूज्य गुरुदेव अपने विचारों के रूप में आज भी हमारे बीच विद्यमान हैं। हमें उनको श्रवण कुमार बनकर झोला पुस्तकालय के माध्यम से घर-घर, जन-जन तक पहुँचाना है। 

उन्होंने समूह साधना वर्ष २०१४ का महत्त्व बताया, उसके निमित्त अपनायी जाने वाली सक्रियता की विस्तार से जानकारी दी। चिंतन गोष्ठी में व्यक्तित्व और संगठन को प्राणवान बनाने के सूत्रों की चर्चा हुई। 

चिंतन बैठक में नवनिर्वाचित सांसद श्री चन्दूलाल साहू भी पहुँचे। उन्होंने क्षेत्र के पिछड़े गरीबों के लिए कार्य करने का संकल्प लिया। उल्लेखनीय है कि वे अपने को गायत्री परिवार का सदस्य मानते हैं और मिशन के कार्यों में भरपूर सहयोग करते रहे हैं। 


युवा प्रशिक्षण शिविर

अंबिकापुर (छत्तीसगढ़)
जिला युवा प्रकोष्ठ अंबिकापुर द्वारा ६ दिवसीय युवा शिविर का आयोजन किया गया। प्रांतीय युवा प्रकोष्ठ के संयोजक श्री ओमप्रकाश राठौड़ ने प्रतिभागी युवाओं को प्रेरित करते हुए कहा कि युवावस्था में जीवन लक्ष्य का बोध हो जाना और उसके विकास के लिए पहल करना जीवन का बहुत बड़ा सौभाग्य है। परम पूज्य गुरुदेव पं. श्रीराम शर्मा आचार्य की कृपा से देश के युवाओं को इस पुण्य पथ पर आगे बढ़ने का जो सौभाग्य मिल रहा है, उसे पहचानने और पूरा-पूरा लाभ उठाने का प्रयास करना चाहिए।  

शिविर में युवा जागरण आन्दोलन के सूत्र समझाये गये। मुख्य प्रशिक्षिका श्रीमती उषा किरण ने साधना, स्वाध्याय, संयम एवं सेवा के माध्यम से  समग्र व्यक्तित्व निर्माण की संभावनाओं की विस्तार से जानकारी दी। 

शिविर में प्रतिदिन योगाभ्यास हुआ। उपयोगी विषयों पर पावर पॉइंट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से चर्चा हुई। व्यक्तित्व निर्माण, सफलता के सूत्र, तनाव प्रबंधन, स्वास्थ्य, धन का अपव्यय एवं फैशन परस्ती रोकना, स्वाध्याय,  ब्रह्मचर्य साधना, कर्मफल का सिद्धांत, संस्कारों का विज्ञान, गायत्री महाविज्ञान, युग निर्माण योजना जैसे विषयों पर चर्चा हुई। शिविरार्थियों का राष्ट्रसेवा हेतु आह्वान किया गया।

शिविरार्थियों को व्यवहारिक प्रशिक्षण देने एवं जनजागरूकता लाने के लिए नगर में ‘भव्य व्यसन मुक्ति रैली’ निकाली गई। सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। कुल १२३ युवा भाई-बहनों ने इसमें भाग लिया। अंतिम दिन १६ शिविरार्थियों ने गुरु दीक्षा भी ली। शिविर की व्यवस्था में श्रीमती शशी सिंह, श्रीमती लक्ष्मी सिंह, श्रीमती मीना सिंह, विमल कुमार, नंदकिशोर का उल्लेखनीय सहयोग रहा।



Write Your Comments Here:


img

बालसंस्कारशाला

शक्तिपीठ युवामंडल द्वारा प्रत्येक रविवार को शाहजहांपुर नगर क्षेत्र में आठ बाल संस्कार शाला संचालित होती है जिसमें शक्तिपीठ बाल संस्कारशाला ,आनंद बाल संस्कार शाला भगवती बाल संस्कार शाला ,शिव बाल संस्कार शाला ,श्री राम बाल संस्कार शाला ,स्वामी विवेकानंद.....

img

सम्मान समारोह

13/10/19 को गायत्री प्रज्ञा पीठ कुँवाखेड़ा लक्सर हरिद्वार उत्तराखंड में वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री बूलचंद जी को शारिरिक कार्य से विश्राम एवँ मार्गदर्शक नियुक्त होने पर उनका सम्मान एवं भोग प्रसाद का कार्यक्रम संम्पन हुआ।.....