img

जासं, दुर्गापुर : गायत्री परिवार ट्रस्ट दुर्गापुर की ओर से अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के संयुक्त तत्वावधान में सिटी सेंटर के अंबुजा कॉलोनी में आत्म शुद्धिकरण के लिए पंचकोशीय साधना एवं एमएएमसी के दुर्गापुर मंदिर व इच्छपुर के काली मंदिर में दीप यज्ञ का आयोजन किया गया। जिसमें काफी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया।

शांतिकुंज हरिद्वार से आए लालबिहारी सिंह ने पंचकोशीय साधना के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने अन्नमय कोश के परिष्कार, प्राणमय कोश के जागरण की प्रक्रिया, आत्मबोध, तत्वबोध एवं दर्पण साधना से विज्ञानमय कोश तथा नाद योग एवं खेचरी मुद्रा की साधना से आनंदमय कोश को जागृत करने की साधना करायी। विद्युत घोष ने गायत्री मंत्र की विस्तृत व्याख्या करते हुए बताया कि मंत्र के 24 अक्षरों में इतना ज्ञान विज्ञान भरा हुआ है कि उसका अन्वेषण करने से सब कुछ प्राप्त किया जा सकता है। गायत्री उपासना वस्तुत: ईश्वर उपासना का एक अत्युत्तम सरल और शीघ्र सफल होनेवाला मार्ग है। इस मार्ग पर चलनेवाले व्यक्ति चरम लक्ष्य तक पहुंचते हैं।


Write Your Comments Here:


img

हिमालय शिखर पर जनमंथन से जागी आस्था

मुनस्यारी, पिथौरागढ़। उत्तराखंड हिमालय के उत्तुंग शिखर पर स्थित जीवन साधना के अद्वितीय केन्द्र गायत्री चेतना केन्द्र मुनस्यारी में इस.....

img

शिक्षण संस्थानों में 105 पेड़ लगाए

पटना। बिहारअखिल विश्व गायत्री परिवार की पटना शाखा से जुड़ी श्रीमती उषा प्रभा के प्रयास से 8 जुलाई को बृहत् वृक्षारोपण अभियान चलाया गया जिसमें गायत्री परिवार के सदस्य एवं वेटरनरी कॉलेज पटना के छात्र- छात्राओं ने मिलकर कॉलेज परिसर.....