शांतिकुंज के पं श्रीराम शर्मा आचार्य जन्मशताब्दी चिकित्सालय में रक्तदान शिविर का आयोजन हुआ। शांतिकुंज आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित इस शिविर में अंतेवासी कार्यकर्त्ता एवं शिविरार्थियों को मिलाकर कुल १२३ लोगों ने रक्तदान किया। ये रक्त हिमालयन अस्पताल जॉलीग्रांट के ब्लड बैंक में जमा कराये गये। इससे पूर्व शिविर का शुभारंभ व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा    ने दीप प्रज्वलन कर किया।
                इस अवसर पर शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने कहा कि गायत्री परिवार पीड़ितों की सेवा करने के लिए सदैव तैयार रहता है। कठिनाइयों का सामना करते हुए भी गायत्री परिवार के स्वयंसेवक तन, मन, धन से सेवा कार्य में जुटे रहते हैं। पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जन्मशताब्दी चिकित्सालय की प्रभारी डॉ. गायत्री शर्मा ने कहा कि सेवा कार्यों में रक्तदान एक महत्त्वपूर्ण सेवा है। उन्होंने बताया कि कई युवाओं ने पहली बार रक्तदान किया।

                वरिष्ठ चिकित्सक डॉ.ओ.पी. शर्मा ने बताया कि पिछले कई वर्षों से जन्मशताब्दी चिकित्सालय में रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाता रहा है। इसमें शांतिकुंज के कार्यकर्त्ता भाई-बहिन एवं उनके बच्चे, विभिन्न साधना सत्रों में आये प्रशिक्षणार्थी परिजन रक्तदान करते हैं। इस वर्ष  १२३ यूनिट ब्लड एकत्र हुआ, इसे जरूरतमंद लोगों को निःशुल्क प्रदान करने हेतु हिमालयन अस्पताल जॉलीग्रांट के ब्लड बैंक में जमा कराया गया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड त्रासदी से पीड़ित परिवार एवं गरीब, असहाय लोगों को निःशुल्क रक्त उपलब्ध कराया जायेगा। 
शिविर के संचालन हेतु शांतिकुंज चिकित्सालय डॉ मंजू चोपदार, डॉ. बी.सी.नायक, डॉ. शिवानंद साहू, एवं हिमालयन अस्पताल से डॉ.राशि, डॉ. विशाखा, जनसंपर्क अधिकारी कृष्ण चन्द्र जोशी, गौरव रावत,  एवं उनकी ग्यारह सदस्यीय टीम उपस्थित थे।




Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....