• अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस पर 

अहमदाबाद (गुजरात)
विश्व पर्यावरण दिवस पर नरोडा शाखा ने सामूहिक वृक्षपूजा और दीपयज्ञ से जनजागरण का कार्यक्रम आयोजित किया। श्री रमेश भाई जोशी, श्री जयेश भाई बारोट और उनके साथियों ने इसका संचालन करते हुए वृक्षारोपण के धार्मिक एवं वैज्ञानिक लाभों की जानकारी दी, वृक्षों के प्रति जनआस्था का पोषण किया। यह कार्यक्रम ‘वृक्षगंगा’, वीरांजलि वन, जीआईडीसी नरोडा में आयोजित किया गया, जहाँ एक वर्ष पहले आध्यात्मिक महत्व के आधार पर विभिन्न प्रकार के वृक्षों का रोपण किया गया है। 

समारोह में तुलसी वृक्ष, त्रिवेणी, गृह-नक्षत्र आदि पर आधारित वृक्ष-वनस्पतियों का पूजन किया गया। वृक्षारोपण क्यों?, प्रदूषण निवारण में उसकी भूमिका क्या? विविध आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए वृक्ष-वनस्पतियों का चयन कैसे? कई महत्त्वपूर्ण विषयों की जानकारी दी गयी। नरोडा एन्वायरो प्रोजेक्ट्स के अध्यक्ष श्री शैलेषभाई पटवारी, नरोडा इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के प्रमुख श्री रमेशभाई पटेल सहित अनेक विषय विशेषज्ञ इस समारोह में उपस्थित थे। 


बाल संस्कार शाला की प्रेरणा प्रतियोगिता-प्रोत्साहन

रावतभाटा़ (राजस्थान)
चित्तौड़गढ़ जिले के गायत्री चेतना केन्द्र रावतभाटा ने अपनी साप्ताहिक बाल संस्कार शाला में विशेष चिंतन शिविर आयोजित कर बच्चों में पर्यावरण जागरूकता बढ़ाने के प्रयास किये। श्री दिलीप भाटिया ने उन्हें पौधे लगाने, कागज का प्रयोग कम करने, ऊर्जा की बचत करने, सफाई रखने, पॉलीथीन का प्रयोग न करने जैसी शिक्षाएँ सुगम शैली में समझायीं। पर्यावरण पर निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गयी जिसके विजेता सुजल, रुचि, हर्षिता, मुनमुन को पुरस्कृत किया गया। 



Write Your Comments Here:


img

शिक्षण संस्थानों में 105 पेड़ लगाए

पटना। बिहारअखिल विश्व गायत्री परिवार की पटना शाखा से जुड़ी श्रीमती उषा प्रभा के प्रयास से 8 जुलाई को बृहत् वृक्षारोपण अभियान चलाया गया जिसमें गायत्री परिवार के सदस्य एवं वेटरनरी कॉलेज पटना के छात्र- छात्राओं ने मिलकर कॉलेज परिसर.....

img

देसंविवि, शांतिकुंज व विद्यापीठ में हर्षोल्लास के मना स्वतंत्रता दिवस

हरिद्वार 16 अगस्त।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय, गायत्री विद्यापीठ व शांतिकुंज ने आजादी के 73वीं वर्षगाँठ के उल्लासपूर्वक मनाया। इस मौके पर देसंविवि व शांतिकुंज में विवि के कुलाधिपति अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या, संस्था प्रमुख श्रद्धेया शैल दीदी.....