img


awgpemaillist@gmail.com

  • ई-मेल आईडी  awgpemaillist@gmail.com के माध्यम से शांतिकुंज द्वारा इच्छुक परिजनों को बड़ी महत्त्वपूर्ण लिंक भेजी जाती हैं। इनके माध्यम से आप अविलंब देख सकते हैं-
  • १. शांतिकुंज द्वारा इंटरनेट  (www.awgp.org) पर किये जाने वाले त्वरित/सीधे प्रसारणों की जानकारी।
  • २. महत्त्वपूर्ण कार्यक्रमों की वीडियो रिकॉर्डिंग।(इन लिंकों पर मिशन के पुराने कार्यक्रमों/प्रवचनों की वीडियो भी उपलब्ध हैं।)
  • ३. पाक्षिक वीडियो पत्रिका ‘युग प्रवाह’।
  • ४. मिशन की प्रमुख पत्रिकाएँ : ‘अखण्ड ज्योति’ और ‘प्रज्ञा अभियान पाक्षिक समाचार पत्र (हिंदी और गुजराती में)’।
  • जो परिजन इस निःशुल्क सेवा का लाभ लेना चाहते हैं, वे कृपया अपनी ई-मेल आईडी उपरोक्त ई-मेल आईडी पर भेजकर इस आशय की जानकारी दें।  अथवा
  • Youtube में जाकर shantikunjvideo को सबस्क्राइब कर (सदस्यता लेकर) भी शांतिकुंज से होने वाले सीधे प्रसारण या रिकॉर्डेड वीडियो देखे जा सकते हैं। 
news@awgp.in 
इसी तरह ई-मेल news@awgp.in से प्रज्ञा अभियान पाक्षिक समाचार पत्र की पी.डी.एफ. कॉपी प्राप्त की जा सकती है। जो यह सुविधा चाहें, वे इस ई-मेल आईडी पर अपनी आईडी भेज दें। इस पर आप अपने स्थानीय समाचार भी भेज सकते हैं।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....