img


इन दिनों डॉ. चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी (जिला अस्पताल, हरिद्वार) और डॉ. अजित तिवारी (राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय, अल्मोड़ा) के नेतृत्व में देव संस्कृति विश्वविद्यालय के चिकित्सकों और  चिकित्सा सहायकों का २६ सदस्यीय दल चार धाम तीर्थ यात्रियों की सेवा में सक्रिय है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अगस्त्यमुनि जनपद रुद्रप्रयाग को बेस कैम्प बनाकर यह दल २७ जून से ही सेवाएँ प्रदान कर रहा है। यह दल तीर्थ यात्रियों की सेवा-सहायता के लिए एक्यूप्रेशर, मर्म चिकित्सा, योग, आहार, प्राकृतिक व पंचकर्म चिकित्सा आदि वैकल्पिक चिकित्सा पद्धतियों का प्रयोग भी कर रहा है। दल में शामिल योग एवं मनोविज्ञान से परास्नातक देसंविवि के विद्यार्थी एक माह तक अपनी सेवाएँ देंगे।

उल्लेखनीय है कि गतवर्ष भी आपदा के समय इसी प्रकार का दल इसी सामुदायिक क्षेत्र में सेवारत था। उन्होंने पीड़ितों को अपने कंधे और पीठ पर ढोकर संकट से बचाने तथा हर  प्रकार की सेवा करने में बड़े मनायोग से कार्य किया था। गत वर्ष की त्रासदी से सबक लेते हुए इस दल को आपात परिस्थितियों से निपटने का विशेष प्रशिक्षण भी दिया गया है। 


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....