img


  • शांतिकुंज ने गोपालकों का किया सम्मान
६ जून की प्रातःकालीन सत्संग सभा में गोपालन और गौसंवर्धन पर विशेष कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस अवसर पर गौसंरक्षण के लिए विशेष रूप से समर्पित तीन विभूतियाँ  कामधेनु गौ संस्थान देवलापार के प्रमुख संचालक श्री सुनील मानसिंहका, गायत्री आश्रम, सेंधवा (म.प्र.) के संचालक श्री मेवालाल पाटीदार और भोपाल के प्रमुख परिजन समर्पित गौसेवक श्री शंकरलाल पाटीदार का शांतिकुंज की ओर से सम्मान किया गया। 

मुख्य वक्ता आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने कहा कि गाय आध्यात्मिक ऊर्जा का केन्द्र है। जहाँ गाय की पूजा होती है वहाँ प्रेम, दया, करुणा, समृद्धि, सुख, शांति का वास होता है। जहाँ गाय का वध होता है वहाँ क्रोध, वैमनस्य, तनाव, आतंक, रोग, अशांति छा जाती है। वहाँ सूखा, भूकम्प जैसी विनाशकारी घटनाएँ होती हैं। गाय राष्ट्र की स्वस्थ समृद्धि का आधार है। गोपालन को पवित्र धर्मकार्य के साथ युगधर्म और राष्ट्रीय कर्त्तव्य माना जाना चाहिए। 

सम्मानित अतिथियों ने भी गोसंवर्धन के संदर्भ में अपने विचार रखे। शांतिकुंज में गोपालन-ग्राम प्रबंधन संकाय के वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने भी इस सभा को संबोधित किया। 



Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....