img


  • शांतिकुंज ने गोपालकों का किया सम्मान
६ जून की प्रातःकालीन सत्संग सभा में गोपालन और गौसंवर्धन पर विशेष कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस अवसर पर गौसंरक्षण के लिए विशेष रूप से समर्पित तीन विभूतियाँ  कामधेनु गौ संस्थान देवलापार के प्रमुख संचालक श्री सुनील मानसिंहका, गायत्री आश्रम, सेंधवा (म.प्र.) के संचालक श्री मेवालाल पाटीदार और भोपाल के प्रमुख परिजन समर्पित गौसेवक श्री शंकरलाल पाटीदार का शांतिकुंज की ओर से सम्मान किया गया। 

मुख्य वक्ता आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने कहा कि गाय आध्यात्मिक ऊर्जा का केन्द्र है। जहाँ गाय की पूजा होती है वहाँ प्रेम, दया, करुणा, समृद्धि, सुख, शांति का वास होता है। जहाँ गाय का वध होता है वहाँ क्रोध, वैमनस्य, तनाव, आतंक, रोग, अशांति छा जाती है। वहाँ सूखा, भूकम्प जैसी विनाशकारी घटनाएँ होती हैं। गाय राष्ट्र की स्वस्थ समृद्धि का आधार है। गोपालन को पवित्र धर्मकार्य के साथ युगधर्म और राष्ट्रीय कर्त्तव्य माना जाना चाहिए। 

सम्मानित अतिथियों ने भी गोसंवर्धन के संदर्भ में अपने विचार रखे। शांतिकुंज में गोपालन-ग्राम प्रबंधन संकाय के वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने भी इस सभा को संबोधित किया। 



Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....