img


भारतीय संस्कृति में गुुरु का स्थान सर्वोपरि है इसीलिए भारतीय संस्कृति के अनुयायी गुरु पर्व को उत्साहपूर्वक मनाते हैं। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में प्रत्येक वर्ष की भाँति होने वाले गुरुपूर्णिमा- व्यास पूर्णिमा के अवसर पर तीन दिवसीय कार्यक्रम को गुरु को समर्पित किया जा रहा है। शांतिकुंज के व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर ने बताया कि प्रथम दिन गुुरु महिमा पर कवि सम्मेलन तथा गुरु- माहात्म्य पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे, तो वहीं दूसरे दिन की शुरुआत प्रभात फेरी से होगी। इसी दिन अपनी लेखनी से समाज को नई दिशा देने वाले चयनित वरिष्ठ साहित्यकारों को सम्मानित भी किया जायेगा। उन्होंने बताया कि पर्वोत्सव का प्रमुख कार्यक्रम 12 जुलाई को होगा। इस दिन गुरु दीक्षा सहित विभिन्न कार्यक्रम निर्धारित हैं। श्री शर्मा ने बताया कि इन सभी कार्यक्रमों को सुचारु रूप से संचालित करने के लिए सात टीम गठित की गयी है।

देसंविवि का 25 वाँ ज्ञान दीक्षा समारोह 13 को 


देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में 2014- 15 के शैक्षणिक सत्र में नवप्रवेशी छात्र- छात्राओं का ज्ञान दीक्षा समारोह 13 जुलाई को होगा। कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी की अध्यक्षता में होने वाले इस समारोह में नवप्रवेशी विद्यार्थियों को मातृभूमि और संस्कृति के लिए समर्पित होने के लिए संकल्पित कराया जायेगा। 

कुलपति श्री शरद पारधी के अनुसार अच्छा प्रारंभ आधी सफलता का मंत्र है और उसकी प्रगति भी उत्तम होती है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए देसंविवि ने शैक्षणिक सत्रों का शुभारंभ ज्ञानदीक्षा समारोह के साथ करने की परंपरा का श्रीगणेश किया है।


Write Your Comments Here:


img

गुरु पूर्णिमा पर्व प्रयाज

गुरु पूर्णिमा पर्व पर online वेब स्वाध्याय के  कार्यक्रम इस प्रकार रहेंगे समस्त कार्यक्रम freeconferencecall  मोबाइल app से होंगे ID : webwsadhyay रहेगा 1 गुरुवार  ७ जुलाई २०२२ : कर्मकांड भास्कर से गुरु पूर्णिमा.....

img

ऑनलाइन योग सप्ताह आयोजन द्वादश योग :गायत्री योग

परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित पुस्तक  गायत्री योग, जिसके अंतर्गत द्वादश योग की चर्चा की गई है, का ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पांच दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया| इस कार्यक्रम में विशेष आकर्षण वीडियो कांफ्रेंस.....

img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....