नर को नारायण और मनुष्य को महान बनाने वाले गुरुतत्त्व के प्रति आस्था के आरोपण के पावन पर्व गुरुपूर्णिमा पर युगतीर्थ शांतिकुंज में भारी जनसैलाब उमड़ा। इतना जनसमूह पहले किसी पर्व पर दिखाई नहीं दिया। संभवतः यह इस वर्ष समूह साधना से समूह मन के निर्माण और चेतना जागरण के लिए देशभर में चल रहे प्रयोगों का ही परिणाम था। निर्मल गंगा जन अभियान, आदर्श ग्रामतीर्थ योजना, हरीतिमा संवर्धन-वृक्षगंगा, नशा उन्मूलन, युवा चेतना जागरण, बाल संस्कार शाला जैसी योजनाओं के माध्यम से समाज में बदलाव की एक नयी बयार चला देने वाले युग निर्माणी गुरुपर्व पर अपनी भावभरी सक्रियता और संकल्पों 
की श्रद्धांजलि लेकर अपने गुरुद्वारे पहुँचे। 

शांतिकुंज में मनाये गये तीन दिवसीय समारोह ने परम पूज्य गुरुदेव-परम वंदनीया माताजी द्वारा अपने बच्चों पर निरंतर बरसाये जा रहे प्रेम, अनुदान, संरक्षण और आशीषों की अनुभूति कराते हुए उनमें सक्रियता की नयी उमंग जगायी। लौटते समय हर साधक-शिष्य के मन में अपने इष्ट, अपने आराध्य, अपने सबसे आत्मीय अभिभवाक के जीवन पथ को अपनाकर उनकी आशाओं पर खरे उतरने की चाह थी। अपना सर्वस्व अर्पित कर जीवन धन्य बनाने की उमंग थी। युग की अवतारी चेतना का सामीप्य प्राप्त करने के गौरव की अनुभूति थी। 



Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....