सनावद, खरगोन (मध्य प्रदेश)
सनावद में सम्पन्न प्रांतीय युवा चेतना शिविर में हुए निर्धारण के अनुसार १३ जुलाई को पूरे मध्य प्रदेश में वृक्षारोपण के कार्यक्रम आयोजित हुए। इनमें १५००० पौधे रोपे गये। प्रांतीय युवा प्रकोष्ठ प्रभारी श्री मनोज तिवारी के अनुसार बुरहानपुर, देवास, सिवनी, खंडवा, खरगोन, इंदौर, भोपाल, शाजापुर आदि में सर्वाधिक वृक्षारोपण होने के समाचार मिले हैं। 

गौलोक धाम, बुरहानपुर में तरुमिलन कार्यक्रम आयोजित हुआ। इसमें ६० गाँवों के ग्रामवासियों ने भाग लिया। उन्होंने एक-एक पौधा गोद में लेकर अपने गाँव में लगाते हुए धरती माता को हरा-भरा बनाने के संकल्प लिये। इस अवसर पर ४०० पौधों का वितरण किया गया। 

छिपिडा, पुरुलिया (प.बंगाल)
छिपिडा में पाँच कुण्डीय गायत्री यज्ञ के साथ तरुपुत्र महायज्ञ आयोजित हुआ। गाँववासियों ने अपने पुत्ररूप में एक-एक पौधे का वरण करते हुए बड़ी श्रद्धा-भावना के साथ उसका रोपण किया और उसके संरक्षण का संकल्प लिया। कुल ५०० पौधे लगाये गये। यह कार्यक्रम श्री नंदलाल सिंघानिया और गायत्री देवी के प्रमुख आर्थिक योगदान से सम्पन्न हुआ। 

जोगिंदर नगर (हि. प्रदेश)
वन विभाग में कार्यरत गायत्री परिवार के कार्यकर्त्ता श्री नागेन्दर गुलेरिया द्वारा वृक्षारोपण का पुनीत अभियान चलाने के साथ बच्चों में पर्यावरण के लिए जागरूकता बढ़ाने के प्रयास किये जा रहे हैं। इस वर्ष उन्होंने कई  विद्यालयों से सम्पर्क करते हुए उनके विद्यार्थियों से लगभग २००० वृक्ष लगवाये। एसेंट विद्यालय के विद्यार्थियों की विशेष भागीदारी रही। उन्होंने अर्जुन, देवदार, आँवला आदि के ५०० पौधे रोपे। 

मकराना, नागौर (राजस्थान)
गायत्री शक्तिपीठ मकराना ने रा.उ.प्रा.वि. कचौलिया में बृहद् वृक्षारोपण करते हुए इस वर्ष के अभियान का शुभारंभ किया। गायत्री परिवार के सर्वश्री सांवरलाल सैनी, जगदीश प्रसाद सोनी, श्यामसुंदर सोलंकी के सहयोग से विद्यालय प्रधानाचार्य श्री अशोक कुमार सोनी और सभी शिक्षक, विद्यार्थियों ने वृक्षारोपण अभियान में भाग लिया। उस दिन कुल १०८ पौधे लगाये गये। 

अगला कार्यक्रम रा.उ.मा. विद्यालय में आयोजित हुआ। वहाँ भी नीम, बबूल, इमली, बरगद आदि के १०८ पौधे लगाये गये। वृक्ष जीवन का पर्याय हैं, धरती का शृंगार हैं। ऐसे प्रेरक वचनों के साथ प्रधानाचार्य श्री बीरमाराम चौधरी ने इस अवसर पर प्रत्येक विद्यार्थी को वर्ष में कम से कम एक वृक्ष अवश्य लगाने की प्रेरणा दी। 

बैतूल बाजार (मध्य प्रदेश)
बैतूल बाजार में आयोजित कृषि विज्ञान केन्द्र, जवाहरलाल नेहरू विवि. जबलपुर रावे की छात्राओं के पर्यावरण कार्यक्रम को मूर्तरूप देने में गायत्री प्रज्ञापीठ, डिवाइन स्कूल ने महत्त्वपूर्ण सहयोग किया। कृषि वैज्ञानिक श्री आर.एल. राउत एवं विद्यालय संचालक श्री अजय पंवार ने लकड़ी का महत्त्व समझाते हुए छात्राओं को कम से कम अपने जीवन के लिए आवश्यक लकड़ी, फल, फूल आदि प्राप्त करने लायक वृक्ष अवश्य लगाने की प्रेरणा दी। तत्पश्चात् समाजसेवी श्री विवेक वर्मा के खेत में फलदार वृक्ष रोपे गये। 



दिया, मुंबई ने श्रीनिकेतन में वृक्षारोपण किया। रक्षाबंधन के अवसर पर बहिनों ने भाइयों को नीम के पौधे भेंट किये और उनके संरक्षण-पोषण का आश्वासन लिया। 

इठारना, भोगपुर में रोपे १५० पौधे
२ अगस्त को आन्दोलन प्रकोष्ठ, शांतिकुंज की टोली देहरादून जिले के गाँव इठारना, भोगपुर पहुँची। इस गाँव में १५० पौधे रोपे गये। ४० पौधे शांतिकुंज प्रतिनिधियों ने गाँव के मंदिर में स्वयं रोपे तथा शेष का गाँववासियों में वितरण किया। अधिकांश पौधे जामुन, आँवला, बेल आदि फलदार वृक्ष के थे, जिनके रोपण के लिए गाँववासी बहुत उत्साहित दिखाई दिये। 


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....