img


  • (केवल भाइयों के लिए)
  • त्रैमासिक
नया सत्र  1 अक्टूबर 2014  से आरंभ
शांतिकुंज में नियमित रूप से चल रही त्रैमासिक युग संगीत प्रशिक्षण सत्र शृंखला का अगला शिविर 1 अक्टूबर 2014 से आरंभ हो रहा है। इन शिविरों में भारतीय संत परंपरा के अनुरूप भक्तिभाव प्रवाहित करने वाले संगीत और युगगायन का प्रशिक्षण दिया जाता है। क्षेत्रीय कार्यक्रमों में संगीत की माँग को पूरा करने की दृष्टि से ये शिविर बहुत उपयोगी हैं। 

इस प्रशिक्षण शिविर में वे ही भाई भाग लें, जो गायत्रीतीर्थ शांतिकुंज में एक मासीय युगशिल्पी या परिव्राजक सत्र कर चुके हैं। जो अपने क्षेत्र, शक्तिपीठ या टोलियों में संगीत के साथ अपना योगदान देते हैं या देना चाहते हैं। जो शक्तिपीठ-शाखाएँ संगीत की दृष्टि से स्वावलम्बी बनना चाहती हैं, वे योग्य परिजनों को इन शिविरों में भेजें। 

पूर्व स्वीकृति अवश्य प्राप्त कर लें। सूचना एवं पूछताछ के लिए गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के संगीत विभाग के 
फोन नंबर- 01334-260602, 260403
      एक्सटेंशन-190 से संपर्क करें। 


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....