देवसंस्कृति विश्वविद्यालय एवं इटली के सेंट्रो भक्ति वेदान्त के बीच हुआ एमओयू

देवभूमि हरिद्वार स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय अपने नित नये प्रयोग के चलते अल्पकाल में ही विश्व स्तरीय पहचान बना चुका है। योग विभाग की विशेषताओं के कारण विश्व के कई देशों से प्रशिक्षणार्थी योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा आदि विषय का प्रशिक्षण लेने देसंविवि आते हैं। पिछले दो वर्षों से इटली के सेंट्रों स्टडी भक्ति वेदांत के अध्यक्ष डॉ बोनी के नेतृत्व में एक दल योग, अध्यात्म एवं प्राकृतिक चिकित्सा को जानने एवं समझने के लिए हरिद्वार आता रहा है। इसी कड़ी में २४ सदस्यीय दल देसंविवि पहुँचा। यह दल ३० अगस्त तक यहाँ रहकर ध्यान, हवन, योग, प्राणायाम, प्राकृतिक चिकित्सा आदि विषयों पर अध्ययन करेगा। यह दल पं० श्रीराम शर्मा आचार्य जी की विचारधारा पर देसंविवि में किये जा रहे यज्ञोपैथी उपचार पर जानकारियाँ प्राप्त करेगा।

इटली से आये दल के नायक डॉ बोनी ने कहा कि आधुनिक शिक्षा के साथ वैदिक और वैज्ञानिक अध्यात्मवाद का अद्भुत समन्वय देवसंस्कृति विश्वविद्यालय की मौलिक विशेषता है। यहां शिक्षा के साथ विद्या भी सिखाई जाती है। 

विश्वविद्यालय का उद्देश्य छात्रों को भारतीय संस्कृति का संवाहक राष्ट्रनिर्माता बनाना है। प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि आज पूरी दुनिया की नजर भारत की ओर है, देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलपिता युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा दिये गये विचार आज समग्र विश्व में समाधान के रूप में देखे जा रहे हैं। दल सदस्यों ने भारतीय संस्कृति के गुणों पर आधारित मानवीय उत्कर्ष एवं शारीरिक स्वस्थता आदि पर देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या के निर्देशन में विभिन्न विषय विशेषज्ञों से बारिकियों को समझ रहे हैं। विश्व की कई सुप्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थानों से एमओयू साइन हो चुके हैं। इसी क्रम में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या जी व सेण्ट्रो स्टडी भक्ति वेदान्त के डॉ. बोनी के बीच आज एमओयू साइन हुए। 



Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....