img

आत्म तर्पण बंधन मुक्ति का मार्ग है :- डॉ पण्ड्याजी
 

श्राद्ध पक्ष में अपने पूर्वजों की याद में श्रद्धा भाव से किया गया श्राद्ध कर्म निश्चित रूप से फलदायी होता है और श्राद्धकर्म के पश्चात पौधे रोपने से यह फल कई गुना बढ़ जाता है। हिन्दु संस्कृति के अनुसार आश्विन मास का कृष्ण पक्ष पितरों के लिए समर्पित होता है। १५ दिनों तक चलने वाले श्राद्ध पक्ष में पौधारोपण, पंचबलि यज्ञ, सद्ज्ञान का प्रचार- प्रसार आदि कई ऐसे कार्य हैं, जिससे इहलोक- परलोक सुधरता है और समाज को प्रेरणा मिलती है।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में श्राद्ध पक्ष के प्रारंभ से लेकर अब तक नियमित रूप से नित्य कई पारियों में सामूहिक श्राद्ध- तर्पण संस्कार किया जा रहा है। इसमें अंतेःवासी कार्यकर्त्ता भाई- बहिन के अलावा देश के कोने- कोने से आने वाले लोग भागीदारी करते हैं। श्राद्ध कर्म में प्रयोग होने वाली समस्त सामग्री शांतिकुंज अपनी ओर से निःशुल्क उपलब्ध कराता है। वहीं भारतवर्ष के विभिन्न राज्यों में स्थापित शक्तिपीठ, प्रज्ञापीठ एवं प्रज्ञा संस्थानों में भी यह क्रम चलाया जा रहा है। कई स्थानों में जीवच्छ्राद्ध श्राद्ध के अंतर्गत स्व- तर्पण का क्रम भी चल रहा है। देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्याजी के आवाहन पर केदारनाथ एवं जम्मू कश्मीर में आई बाढ़ में हताहत हुए मृतात्माओं की आत्मिक शांति एवं सद्गति के लिए श्राद्ध- तर्पण एवं विशेष मंत्र से यज्ञाहुतियाँ दी जा रही हैं। उन्होंने कहा कि विभिन्न त्रासदी में हताहत हुए मृतात्माओं की शांति के लिए कर्मकांड किये जा रहे हैं।

श्राद्ध का अर्थ होता है श्रद्धा,अपने पितरों के प्रति श्रद्धा व्यक्त करते हुए एक से तीन फलदार व छायादार वृक्ष लगाने का संकल्प भी लिया जा रहा है। उन्हें गायत्री तीर्थ स्थित उद्यान विभाग की ओर से तरु प्रसाद दिया जा रहा है। श्राद्ध पक्ष के मद्देनजर युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित युगसाहित्य पर छूट दिया जा रहा है। साथ ही निर्मल गंगा जन अभियान के तहत गंगा मैया की स्वच्छता के प्रति जागरुक किया जा रहा है तथा गंगा को निर्मल बनाये रखने में स्वयं के साथ अपने निकटस्थ पाँच परिवार को तैयार करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।


Write Your Comments Here:


img

गुरु पूर्णिमा पर्व प्रयाज

गुरु पूर्णिमा पर्व पर online वेब स्वाध्याय के  कार्यक्रम इस प्रकार रहेंगे समस्त कार्यक्रम freeconferencecall  मोबाइल app से होंगे ID : webwsadhyay रहेगा 1 गुरुवार  ७ जुलाई २०२२ : कर्मकांड भास्कर से गुरु पूर्णिमा.....

img

ऑनलाइन योग सप्ताह आयोजन द्वादश योग :गायत्री योग

परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित पुस्तक  गायत्री योग, जिसके अंतर्गत द्वादश योग की चर्चा की गई है, का ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पांच दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया| इस कार्यक्रम में विशेष आकर्षण वीडियो कांफ्रेंस.....

img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....