स्वावलम्बन को प्रोत्साहन देने के लिये की गयी स्थापना|

हरिद्वार 14 अप्रैल।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में रविवार को रचनात्मक प्रकोष्ठ.ग्राम प्रबंधन विभाग द्वारा संचालित तेल घानी का विधिवत शुभारंभ हुआ। इसका शुभारंभ स्वावलम्बन को प्रोत्साहन देने के लिए किया गया है। इससे बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। ज्ञात हो कि इस विभाग द्वारा हस्त करघाए हस्त निर्मित कागजए लिफाफाए कैरीबैग आदि बनाने तथा गोमूत्र.गोबर आदि से बनने वाले साबुनए फेसपेकए औषधि आदि बनाने का निरूशुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है।

 देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी और व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने स्वावलम्बन की विविध योजनाओं को आगे बढ़ाते हुए रविवार को कच्ची घानी की शुरुआत की। इस अवसर पर कुलाधिपति डॉण् पण्ड्या ने कहा कि कुटीर उद्योगों की स्थापना देसंविवि का एक महत्त्वपूर्ण अंग है। इसके अंतर्गत कुटीर उद्योग को हर घर में स्थान मिलेए हर खाली हाथ को काम मिले की अवधारणा पर गौपालनए गौमूत्र.गोमय पर आधारित उत्पाद वनौषधियोंए जड़ी.बूटियों की खेतीए मधुमक्खी पालनए हस्तनिर्मित कपड़ा व कागजए कच्ची घानी  जैसे उद्योगों को सभी क्षेत्रों में प्रोत्साहित करने के प्रयास अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा किये जा रहे हैं। व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने कहा कि राष्ट्र को समुन्नत व स्वावलम्बी बनाने के लिए बेरोजगार युवाओं को स्वावलम्बी बनाना आवश्यक है। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए देसंविवि में कई कुटीर उद्योग संचालित हैंए जहाँ जरूरतमंद निरूशुल्क प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं।

देसंविवि के गौशाला परिसर में स्थित इस विभाग के प्रभारी टेकचन्द शर्मा ने बताया कि प्रथम चरण में अभी दो घानी लगाई गयी है। एक घानी से एक दिन में 36किलो सरसों का तेल निकाला जा सकेगा। इस तेल का उपयोग गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में निरूशुल्क चलने वाले भोजनालय में किया जायेगा। अभी यह बिजली द्वारा चलाई जा रही हैए आगे बैल से कोल्हू चलाने की योजना है। उन्होंने बताया कि अब तक हजारों लोगों को प्रशिक्षित किया जा चुका है। उण्प्रण् पशुपालन विभाग में संयुक्त निदेशक पद से सेवानिवृत्त श्री शर्मा ने बताया कि प्रशिक्षण लेने के इच्छुक बेरोजगार युवाओं को निरूशुल्क प्रशिक्षण भी देने की योजना है। इस अवसर पर उत्तराखण्ड परिवहन विभाग के वित्त नियंत्रक पंकज तिवारीए कुलपति डॉण् सुखदेव शर्माए केएस त्यागीए डॉ केएन दुबेए इंजीनियर सहदेव सिन्हाए प्रोण् करनसिंह आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....