img


बहनों का ४० दिवसीय समूह साधना अनुष्ठान
नागपुर (महाराष्ट्र) ः महिला मण्डल यशोदा नगर ने ४० दिनों तक अलग-अलग घरों में सामूहिक साधना के माध्यम से सवा लाख गायत्री महामंत्र जप अनुष्ठान सम्पन्न किया। इसके अंतर्गत प्रतिदिन प्रातः ५ से ७ सामूहिक ध्यान एवं जप तथा दोपहर ११ से २ बजे तक गुरुगीता पाठ, त्रिवेणी संगम ध्यान, स्वाध्याय का क्रम रहा। 

सामूहिक साधना अनुष्ठान की पूर्णाहुति २३ अगस्त को शिव मंदिर, वासुदेव नगर, हिगणा रोड़ पर हुई, जिसमें दैनिक साधना के आयोजक सभी ४० परिवारों ने भाग लिया। पूरे कार्यक्रम की रूपरेखा बनाने एवं संचालन कार्य में कल्पना बिसेन, चंदा राखुंडे, शोभा गणगणे, पुष्पा रोकड़े, माया पटले, मंगला माकडे, लक्ष्मी ठाकुर, सूर्यवंशी बाई, कुसुम खुबाड़कर की प्रमुख भूमिका थी। 

एक मासीय महाशक्ति जागरण साधना अभियान
बोरगाँव, छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश) ः बोरगाँव शाखा की बहिनों ने गुरुपूर्णिमा से श्रावणी पूर्णिमा तक एक मासीय महाशक्ति जागरण साधना अभियान चलाया। इसके अंतर्गत घर-घर समूह साधना करायी गयी। 

सावन के महीने में पवार कॉलोनी में सामूहिक शिवाभिषेक हर सोमवार को कराया, शिवत्व के जागरण के लिए सक्रिय सहयोग करने के संकल्प दिलाये। वृक्षारोपण इस अभियान का प्रमुख कार्य था। इसके अंतर्गत सार्वजनिक स्थानों पर २४ पोधे रोपे गये। ताप्ती कॉलोनी में श्री विजय वराठे द्वारा अशोक के ५० पौधे लगाये गये। बहिनों द्वारा हर मोहल्ले में संपर्क कर घर-घर तुलसी के पौधे पहुँचाये गये। 

पंचकोशीय साधना शिविरों से प्रबुद्ध वर्ग प्रभावित
आसनसोल (प.बंगाल) ः आसनसोल उपजोन द्वारा पंचकोश जागरण के कई उच्च स्तरीय साधना शिविरों का आयोजन किया गया। १६ से ३१ अगस्त के बीच ये शिविर गायत्री शक्तिपीठ पुरुलिया, गायत्री शक्तिपीठ बर्नपुर तथा दामोदर घाटी निगम के मुख्यालय मैथन में आयोजित हुए। उपजोन समन्वयक श्री रामानुज तिवारी के अनुसार श्री लालबिहारी सिंह द्वारा संचालित ये शिविर लोगों को १०८ कुण्डीय यज्ञ जैसे बड़े आयोजन से भी अधिक प्रभावशाली लगे। उन्होंने बताया कि ये साधना शिविर कम लागत के होते हैं, लेकिन हर प्रतिभागी को गायत्री का नैष्ठिक उपासक बना ही देते हैं। 

प.बंगाल के इन शिविरों में अधिकांश प्रबुद्ध वर्ग के लोगों ने भाग लिया। बर्नपुर में १० अभियंता और ५ चिकित्सक; मैथन में २२ अधिकारी, १२ चिकित्सक और १८ प्रोफेसर्स ने शिविर का लाभ लिया। पुरुलिया में अधिकांश प्रशिक्षणार्थी बंगाली मूल के थे। 

मुख्य शिविरों के बीच कई कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों में जीवन साधना की उमंग जगायी गयी। बर्नपुर में गर्ल्स और बॉयस हाईस्कूल में उद्बोधन हुए। बच्चों में जागी आत्मविकास की उत्सुकता उनके प्रश्नों में स्पष्ट झलकती थी। मैथन में डीवीसी उच्च विद्यालय तथा कॉमर्स कॉलेज के हजारों बच्चों को संबोधित किया। 

बर्नपुर के ईसीएल में अधिकारियों के बीच हुई गोष्ठी की प्रस्तावना इतनी प्रभावशाली थी कि अधिकारियों ने आगामी दिसंबर माह में पाँच दिवसीय शिविर की तिथियाँ निश्चित कर लीं। मैथन कार्यक्रम के समय कुमार्धुबी में व्यापारियों के बीच साधना संगोष्ठी हुई। 



Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....