• परिव्राजकों का प्रांतीय प्रशिक्षण शिविर
  • अपनी परिस्थितियों के अनुरूप प्रशिक्षण और अभ्यास का विशेष लाभ मिला

जोन मुख्यालय गायत्री शक्तिपीठ भोपाल में आयोजित एक मासीय परिव्राजक प्रशिक्षण शिविर अत्यंत सफल और उत्साहवर्धक रहा। १ से ३० अगस्त तक चले शिविर में २२ जिलों के ४३ प्रशिक्षणार्थियों ने भाग लिया। शांतिकुंज के प्रशिक्षण शिविर के अनुरूप शिक्षण के साथ क्षेत्र में उनके प्रायोगिक अभ्यास का अवसर मिला। शांतिकुंज से पहुँचे वरिष्ठ कार्यकर्त्ता डॉ. बृजमोहन गौड़, श्री विष्णुभाई पण्ड्या, श्री सुखदेव अनघोरे एवं श्री प्रताप शास्त्री ने भी शिविर को संबोधित किया। 

शिविर के बीच प्रशिक्षण के रूप में १५ अगस्त और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व मनाये गये। ग्रामतीर्थ परिव्रज्या प्रशिक्षण के अंतर्गत २८ अगस्त को इमलिया गौशाला गये, वहाँ स्वच्छता अभियान चलाया, नशामुक्ति रैली निकाली और १०८ फलदार वृक्षों का रोपण किया। इस शिविर में क्षेत्र में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा और बाल संस्कार शाला के अभियान को गति देने के लिए विशेष प्रेरणा-प्रशिक्षण दिये गये। 

डॉ. शंकर लाल पाटीदार, जोन प्रभारी श्री शिवकुमार पाण्डे, श्री महाकालेश्वर श्रीवास्तव प्रांतीय संयोजक, श्री आनंद विजयवर्गीय प्रांतीय समन्वयक, भृगुनाथ प्रसाद तिवारी, डॉ. अशोक नेमा, श्री अमर धाकड़, प्रभाकांत तिवारी, के.एन. गिरि आदि अनेक वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं ने इसे संबोधित किया। श्री कैलाश नारायण शर्मा प्रशिक्षण प्रभारी थे। 

प्राणवान कार्यकर्त्ता प्रशिक्षण मार्गदर्शिका
परिव्राजक प्रशिक्षण सत्र के बीच शांतिकुंज प्रतिनिधियों ने पुस्तक ‘प्राणवान कार्यकर्त्ता पुनश्चर्या प्रशिक्षण मार्गदर्शिका’ का विमोचन किया। श्री वासुदेव प्रसाद लाड, इंदौर ने इसे शक्तिपीठों के संचालकों और परिव्राजकों के मार्गदर्शन के लिए अपने माता-पिता की स्मृति में प्रकाशित कराया है। इसमें मिशन के उन कार्यक्रमों की रूपरेखा को सरलीकृत भाषा में प्रकाशित किया गया है, जो क्षेत्रों में चलाये जाते हैं, चलाये जाने चाहिए। 


Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....