724 कि.मी. के तटीय क्षेत्रों में सैकड़ों शाखाओं ने किया वृक्षारोपण
सूर्य पुत्री ताप्ती की जयंती पर ताप्तीतट की गायत्री परिवार की शाखाओं ने माँ ताप्ती अंचल शुद्धि अभियान चलाते हुए उद्ïगम से सागर संगम तक की पूरी 724 किलोमीटर की लम्बाई पर सघन वृक्षारोपण करते हुए माँ ताप्ती को हरी चूनर पहनाने का संकल्प लिया। ताप्ती जयंती-26 जून को जगह-जगह दीपयज्ञ और वृक्षारोपण के कार्यक्रम आयोजित हुए, जिनमें 10,000 वृक्षों का रोपण किया गया। इसमें मुलताई और बुरहानपुर के 50 से अधिक गाँवों, महाराष्टर में जलगाँव, धुळे, नंदुरबार शाखाओं और गुजरात की सूरत शाखा ने इस अभियान में प्रमुखता से भाग लिया।

अभियान के तीन चरण
1. जल शुद्धि-स्वच्छता एवं जन जागरूकता अभियान चलाते हुए ताप्ती जल को प्रदूषणमुक्त करने के प्रयास करना।
2. तट शुद्धि-तटीय क्षेत्र पर सघन वृक्षारोपण कर उन्हें हराभरा बनाना तथा
3. ग्राम शुद्धि-तटीय गाँवों में ताप्ती मंडलों की स्थापना कर ताप्ती शुद्धि के लिए जागरूकता अभियान चलाना, उन्हें जैविक कृषि के लिए प्रोत्साहित करना।

http://news.awgp.org/var/news/16/Burhanpur%20Taru%20Mahayagya%20%281%29.JPG" height="105" width="141">ताप्ती जयंती के उपलक्ष्य में मुलताई शाखा ने नगर के समस्त धार्मिक-सामाजिक संगठनों के सहयोग से एक विशाल समारोह आयोजित किया। इससे पूर्व मुलताई शाखा वृक्षगंगा पर्यावरण यात्रा निकाली, जो गायत्री शक्तिपीठ मुलताई से आरंभ हुई। तत्पश्चात्ï तटीय ग्राम साडीया, तायखेड़ा, पारसडोह, कोलगाँव, पुसली, मांडवी, बीसनोर, श्रवणतीर्थ सहित पंद्रह गाँवों का मंथन कर वहाँ ताप्ती मंडल बनाये गये, वृक्ष बाँटेे गये और सतत वृक्षारोपण का लक्ष्य उन्हें दिया गया।
इसके अंतर्गत 25 जून को नगर में वृक्षगंगा पर्यावरण कलश यात्रा निकाली गयी और सायंकाल ताप्ती कुण्ड पर 1100 दीप प्रज्वलित करते हुए  दीपमहायज्ञ किया गया। कलश यात्रा के समय बहिनों ने मस्तक के कलश में माँ ताप्ती का जल और उन पर एक-एक वृक्ष धारण कर रखे थे। ऐसा लग रहा था मानो प्रकृति ही ताप्ती मैय्या को हरी चुनरी ओढ़ाने के लिए गतिशील हो उठी हो।
ताप्ती कुण्ड पर दीपयज्ञ के समय प्रज्वलित 1100 दीप लोगों के जाग्रत्ï अंतस्ï का प्रतिबिंब प्रतीत हो रहे थे। इस अवसर पर श्री कृष्ण कुमार गडेकर ने कहा कि ताप्ती जैसी मैदानी नदियों के कोई ग्लेशियर नहीं हैं। उनके तटीय प्रदेश के हरेभरे वन ही उनको जीवित रखते हैं। आज जंगलों की अंधाधुंध कटाई के कारण नदियाँ सूख रही हैं। उन्हें बचाये रखना है तो तटों पर सघन वृक्षारोपण कर उन्हें फिर से हरा-भरा बनाना होगा। इस अवसर पर स्थानीय विधायक श्री सुखदेव पांसे, नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती सुप्रिया यादव, श्री संजय यादव, वृक्षगंगा अभियान को पूर्णरूपेण समर्पित श्री मनोज तिवारी-बुरहानपुर, श्री प्रकाश मोरझानी-जबलपुर और वृंदावन से पधारे ताप्ती पुराण वाचक श्री अशोकाचार्य महाराज की गरिमामय उपस्थिति रही।  उनके प्रेरक उद्ïबोधनों ने ताप्ती शुद्धिकरण महाअभियान को एक राष्टरीय अभियान के रूप में देखते हुए अपने क्षेत्र को गौरवान्वित करने का उत्साह जगाया।

बुरहानपुर जिले के सोनुद, उमरदा, लिंगा, जैनाबाद, सारोला, देडतलाई, नेपा, साईखेड़ाकला, पलासुर, नावथा, आंधारी, भातखेड़ा, नाचनखेड़ा आदि कुल 20 स्थानों पर वृक्षारोपण के कार्यक्रम आयोजित किये गये। बुरहानपुर के नागझीरी घाट पर 101 तरुपुत्र रोपण महायज्ञ का आयोजन कर आम और जामुन के वृक्ष रोपते हुए ताप्ती मैय्या को हरी चादर ओढ़ायी गयी। इस महायज्ञ में महापौर माधुरी अतुल पटेल, रामझरोखा मंदिर के श्री नर्मदागिरि महाराज, श्री हरिकृष्ण मुखिया जी और गायत्री परिवार के श्री बसंत मोढे ने अपने प्रेरक उद्ïगारों से जनमानस में पर्यावरण संरक्षण के लिए हरीतिमा विस्तार के संकल्प जगाये।
नेपानगर : बुरहानपुर की नेपा तहसील के युवाओं द्वारा 8 गाँवों में वृक्षारोपण किया गया। इस अभियान में कुल 151 पौधे रोपे गये।

सूरत : गायत्री चेतना केन्द्र सूरत के श्री गुलाब भाई एवं श्री भरत भाई के मार्गदर्शन में गुजरात और महाराष्टï्र के कई तटीय गाँवों-ब्यावल, सलवाड़ा, हिगणी, शेलू, देवला, सरवाला आदि में वृक्षारोपण के कार्यक्रम और संकल्प समारोह आयोजित हुए। वृक्षगंगा अभियान की गुजरात इकाई के प्रभारी श्री पिनाकिन भाई के अनुसार उस दिन तटीय गाँवों में 4000 वृक्षों के रोपण के संकल्प लिये गये।

डाभी, खंडवा (म.प्र.)
अब तक अपने क्षेत्र की 23 पहाडिय़ों को हरा-भरा कर चुके बुरहानपुर के कर्मठ युग निर्माणियों ने डाभी ग्राम में तरुपुत्र महायज्ञ का आयोजन कर उस स्थान को श्रीराम स्मृति उपवन सिंगाजी पर्वत का नाम दिया। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री केपी दुबे, श्री सुधीर भारद्वाज और प्रांतीय युवा संयोजक श्री आनंद विजय की मुख्य उपस्थिति में 8 जुलाई को हुए महायज्ञ में 1124 वृक्ष रोपे गये।
वृक्षारोपण से पूर्व 1124 परिजनों का चयन, पंजीयन किया गया। निर्धारित स्थान पर गड्ढïे खोदे गये। वृक्षारोपण के दिन वे अपने लिये निर्धारित गड्ढ के पास बैठे, विधिवत्ï यज्ञ किया। इस अवसर पर पर्यावरण शोधन एवं राष्टï्र की समृद्धि के लिए विशेष

भुसावल, महाराष्ट   जलगाँव जिले में ताप्ती शुद्धिकरण महाभियान का शुभारंभ भुसावल में आयोजित दीपयज्ञ से हुआ। शक्तिपीठ संयोजक श्री हीरालाल शुक्ला एवं श्री किरण कुमार फालक ने इसके लिए नगरवासियों में उत्साह जगाया। ताप्ती तट पर 25 वृक्षों का रोपण किया गया तथा वृक्षारोपण के लिए 111 पौधें वितरित की गयीं।


Write Your Comments Here:



Warning: Unknown: write failed: No space left on device (28) in Unknown on line 0

Warning: Unknown: Failed to write session data (files). Please verify that the current setting of session.save_path is correct (/var/lib/php/sessions) in Unknown on line 0